मुख्यपृष्ठनए समाचारमुख्यमंत्री के जिले में खस्ताहाल सड़क! डोली से अस्पताल ले जाते समय...

मुख्यमंत्री के जिले में खस्ताहाल सड़क! डोली से अस्पताल ले जाते समय महिला ने दिया मृत बच्चे को जन्म

सामना संवाददाता / ठाणे
महाराष्ट्र में ठाणे जिले के एक दूरदराज के गांव से ‘डोली’ में अस्पताल ले जाने के दौरान २६ वर्षीय महिला ने रास्ते में मृत बच्चे को जन्म दिया। यह घटना महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के जिले की है, जहां दूर दराज के गांवों की सड़कें इतनी खस्ताहाल हैं कि गर्भवती महिला को अस्पताल ले जाने के लिए किसी वाहन का नहीं बल्कि डोली का सहारा परिजनों को लेना पड़ा। इस गांव में करीब २५ परिवार रहते हैं और गांव का सड़क मार्ग से संपर्क बेहतर नहीं है। अधिकारियों ने बताया कि यह घटना बृहस्पतिवार को भिवंडी तालुका के धिगाशी गांव के धर्मचपाड़ा में हुई।
व्यवस्था होती तो जिंदा होता बच्चा
उन्होंने कहा, ‘सड़क मार्ग से बेहतर संपर्क नहीं होने के कारण दर्शना कारले को एक डोली में चिकित्सा केंद्र ले जाया जा रहा था। इसी दौरान उसने मृत बच्चे को जन्म दिया और महिला के साथ आ रहे लोग उसे वापस गांव ले गए। उसके दो लड़के और एक लड़की है और यह उसकी चौथी संतान थी’ गणेशपुरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. माधव कावले ने कहा कि घटना के बारे में पता चलने पर उन्होंने गांव का दौरा किया। उन्होंने कहा कि महिला की हालत अब स्थिर है और उसका इलाज किया जा रहा है। यहां सवाल यह उठता है कि यदि गांव में स्वास्थ्य संबंधी व्यवस्था होती तो महिला का बच्चा सुरक्षित और जिंदा पैदा होता।
डॉक्टर अपनी सफाई में कुछ भी कहें
डॉ. कावले ने कहा, ‘महिला २४ अगस्त को नियमित जांच के लिए पीएचसी आई थी और उसे भर्ती होने की सलाह दी गई क्योंकि उसके प्रसव की तारीख नजदीक थी। हालांकि उसने और उसके परिजनों ने कपड़े लेने के लिए वापस जाने की बात कही और फिर वे वापस नहीं आए। पीएचसी की एक नर्स ने २६ अगस्त को महिला से मुलाकात की थी। उन्होंने कहा कि महिला के पति ने नर्स से एक या दो दिन में अपनी पत्नी को अस्पताल में भर्ती कराने की बात कही थी। अब अधिकारी और डॉक्टर अपनी सफाई में कुछ भी कहें लेकिन यदि गांव की सड़क अच्छी होती तो समय पर कोख में पल रहे बच्चे को बचाया जा सकता था।

अन्य समाचार