मुख्यपृष्ठनए समाचारबकलोली: केले उगाने पर जुर्माना

बकलोली: केले उगाने पर जुर्माना

श्रीकिशोर शाही

अब फल-सब्जियां उगानी तो अच्छी बात है। भला ऐसे नेक काम में किसी को जुर्माना वैâसे लग सकता है? पर यही तो कलियुग की महिमा है। अब जापान से एक कमाल की बकलोली वाली खबर आई है। वहां एक शख्स को केले का पेड़ उगाना भारी पड़ गया। उसे उन पेड़ों को हटाने के साथ ही ५००,००० येन (२ लाख ८० हजार ९८२ रुपये) का जुर्माना भरने का आदेश दिया गया है। अगर उसने ऐसा नहीं किया तो एक साल की जेल की सजा भुगतनी होगी। यह घटना जापानी शहर कुरुमे की है। ५० वर्षीय ये शख्स २ साल से फुकुओका प्रांत के कुरुमे सिटी की व्यस्त सड़क के बीच में होने वाली खाली जगह में तीन केले के पेड़ उगा रहा था। वह रोजाना इन पेड़ों को पानी देता था। पर उसने इसे अवैध रूप से उगाया था। इसी वजह से उस शख्स को जुर्माना भरने का आदेश दिया गया। हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि उसने सड़क के बीचों-बीच पेड़ क्यों लगाए। आदेश के बाद केले के पेड़ों को मौके से हटा दिया गया है। इस पर शख्स ने कहा, ‘मैं अपने खूबसूरत केलों के पेड़ों के बिना अकेला महसूस करता हूं।’

प्रलय की दस्तक

रह-रहकर कुछ दिनों में हम इस दुनिया के खत्म होने की भविष्यवाणी सुनते रहते हैं। अब तो मानो इसकी आदत सी हो गई है। लेकिन अभी तक की सारी भविष्यवाणियां गलत ही साबित हुई हैं। अब तो खैर, सोशल मीडिया का जमाना है और यहां तो कोई कुछ भी बनकर शुरू हो जाता है। अब एक शख्स ने इस साल के आखिर में ही धरती के खत्म होने की बकलोली कर डाली है। यानी ३०-४० दिनों में मामला खत्म। लोग इसकी बातों से सहमत इसलिए भी हो रहे हैं कि वाकई इन दिनों धरती के कई हिस्सों में भकंप के झटके महसूस हो रहे हैं। इस शख्स का नाम है ऐथोस शलोमी। दावा है कि इनकी कई भविष्यवाणियां सच साबित हो चुकी हैं। इसमें क्वीन एलिजाबेथ की मौत से लेकर एलेन मस्क द्वारा ट्विटर से छेड़छाड़, जिसमें उसका नाम बदलना शामिल है। अब ऐथोस ने दुनिया के खात्मे को लेकर भविष्यवाणी की है। ऐथोस का कहना है कि इस साल के आखिर में दुनिया अपनी तबाही की शुरुआत देखेगी। ये तबाही प्राकृतिक आपदाओं के कारण आएगी। ऐथोस की भविष्यवाणी के मुताबिक, दिसंबर में भूकंप और बाढ़ से दुनिया दहल जाएगी। इसके साथ ही कई जगहों पर ज्वालामुखी फटने की संभावना भी है। खासकर इंडोनशिया और जावा में। इसके अलावा अमेरिका, कोलंबिया, कनाडा में भी कई तरह की आपदाएं आएंगी। खैर, ऐसी प्राकृतिक आपदाओं और दुनिया खत्म होने की बात में काफी फर्क है।

अन्य समाचार