मुख्यपृष्ठस्तंभबकलोली : हैलो मिस्टर, हाऊ डू यू डू

बकलोली : हैलो मिस्टर, हाऊ डू यू डू

श्रीकिशोर शाही

पुराना साल खत्म हो रहा है। नए साल के स्वागत का खुमार चढ़ता जा रहा है। ऐसे में पीने-पिलाने का दौर भी चल रहा है। लोग छुट्टियों के मूड में आ चुके हैं। मगर इसके साथ ही देश में इंग्लिश में बोलने की आवाजें कुछ ज्यादा सुनने को आ रही हैं। हम कॉनवेंट में पढ़ने वालों की बात नहीं कर रहे हैं बल्कि उनकी बात कर रहे हैं, जो हलक में दो घूंट जाने के बाद अंग्रेजी बोलने लगते हैं। अब एक रिसर्च में इस ‘टॉकिंग’ अंग्रेजी का खुलासा किया गया है। इस रिसर्च में ये बात सामने आई कि नशे में लोगों का इंग्लिश बोलना यूं ही नहीं होता। इसके पीछे एक खास कारण होता है। इंग्लिश बोलना सिर्फ इंडिया के संदर्भ में है। दुनिया का कोई भी इंसान, जिसे कोई दूसरी भाषा आती है, वो शराब के नशे में उस फॉरेन लैंग्वेज को आसानी से बोलने लगता है। जब वो होश में होता है तो झिझकता है। शराब के नशे में सारी झिझक खत्म हो जाती है और वो आराम से खुलकर दूसरी भाषा बोलने लगता है। तो अगर इस बार न्यू ईयर सेलिब्रेशन में आप किसी को नशे में इंग्लिश बोलते सुनें, तो समझ जाएं कि इसके पीछे का साइंस क्या है?
जेबकतरा डोसा
आजकल बाजार में कब आपकी जेब कट जाए कहा नहीं जा सकता। अब कोई ब्लेड से जेब नहीं काटता बल्कि आप खुद पैसे निकालकर दे दे ते हैं। अब ६०० रुपए में कोई आपको एक डोसा दे तो आप खुद का जेब कटा हुआ समझेंगे ही न।
हाल ही में एक यूजर ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर करते हुए बताया कि वह यह देखकर हैरान था कि मुंबई हवाई अड्डे पर डोसा कितना महंगा है। यूजर ने बताया, कि छाछ के साथ एक मसाला डोसा की कीमत ६०० रुपए थी। भले ही एयरपोर्ट पर चीजें ऊंची कीमत पर बेची जाती हैं, लेकिन एक साधारण खाद्य पदार्थ की इस कीमत ने इंटरनेट पर कई लोगों को चौंका दिया। बेन खली डोसा की कीमत ६२० रुपए है। अगर कोई ग्राहक अपने डोसे के साथ लस्सी या फिल्टर कॉफी पीना चाहता है, तो लागत और भी बढ़ जाती है। वीडियो के वैâप्शन में लिखा है, ‘मुंबई एयरपोर्ट पर सोना डोसा से भी सस्ता है।’ इस पर एक यूजर ने कहा, ‘कुछ खास नहीं लग रहा है।’ दूसरे ने लिखा, ‘इस बीच सभी दक्षिण भारतीय सोच रहे थे कि ‘यह मसाला डोसा है?’ तीसरे ने कहा, ‘कौन कहता है कि आप केवल भोजन की लागत के लिए भुगतान कर रहे हैं? (यह कोई सड़क पर लगने वाला स्टॉल नहीं है जहां आप छोटू को बुला सकते हैं) एक यूजर ने कहा, ‘मसाला डोसा के लिए ६०० रुपए का भुगतान करने की कल्पना करें, जो अभी भी ४०-५० रुपए से ज्यादा नहीं है।’ एक यूजर ने लिखा, ‘इसे हम शोषण कहते हैं!’

अन्य समाचार