मुख्यपृष्ठस्तंभबकलोली: कौन बरसा रहा है पत्थर?

बकलोली: कौन बरसा रहा है पत्थर?

श्रीकिशोर शाही
रेलवे आपकी संपत्ति है, इसका मतलब यह नहीं कि अपनी संपत्ति को बार-बार क्षतिग्रस्त किया जाए। यूपी में चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस पर बार-बार पत्थर बरस रहे हैं। यह हिंदुस्तान की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन है। हाल ही में यह ट्रेन जब गोरखपुर से लखनऊ जा रही थी तो कुछ लोगों ने ट्रेन के ऊपर पत्थर बरसाए। इसका परिणाम यह हुआ कि ट्रेन के कई शीशे टूट गए। हालांकि, इस पत्थरबाजी में कोई घायल नहीं हुआ। हो सकता है, ऐसा मस्ती के लिए किया गया हो या फिर यह भी हो सकता है कि कुछ शरारती तत्वों ने ऐसा करके रेलवे को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की हो। अब चाहे जो भी स्थिति रही हो पर नुकसान तो देश का ही हुआ। रेलवे को भी चाहिए कि सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की जाए, ताकि ऐसी घटनाएं न हों। पता चला है कि अभी तक यूपी में वंदे भारत एक्सप्रेस पर करीब आधा दर्जन बार पत्थरबाजी की घटनाएं हो चुकी हैं। इस बार गोरखपुर से लखनऊ जा रही वंदे भारत ट्रेन पर रविवार को चौथी बार पत्थरबाजी हुई। सुबह करीब १० बजे सफेदाबाद रेलवे स्टेशन के पास पत्थर चलाए गर्ए। पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सीसीटीवी फुटेज को खंगाल रही है। मगर लगता है इस बार भी पहले की तरह मामला खानापूर्ति से शायद ही आगे बढ़े।
सिपाही जी रंगबाज हैं
लखनऊ के थाना हजरतगंज के अंतर्गत सुल्तानगंज पुलिस चौकी है। इस चौकी के एक सिपाही का वीडियो इन दिनों खूब वायरल हो रहा है। यह सिपाही जी थोड़े रंगबाज टाइप के मालूम पड़ते हैं। उनकी मौजूदगी में कोई भी शख्स जाकर थाने में रील बना सकता है। पुलिस की टोपी पहन कर उल्टी-सीधी हरकतें कर सकता है। मगर ऐसा वैâसे? तो इसका जवाब है कि सिपाही जी खुद भी ऐसे रील वगैरह के शौकीन हैं। हाल ही में इस चौकी में बर्थडे मनाया गया तो खूब धमाल मचा। यही वजह है कि उनके राज में सबको कुछ भी करने की छूट है। वैसे वहां के माहौल पर नजर रखने वालों का कहना है कि सिपाही जी को लेन-देन में पूरा यकीन है बोले तो वसूली। इसलिए वह इस बात पर भी नजर रखते हैं कि कहां-कहां से कमाई हो सकती है! रात १० बजे के बाद शिकार की तलाश शुरू होती है। अब चूंकि सिपाही जी का वीडियो काफी मशहूर हो रहा है इसलिए इस बात की पूरी संभावना है कि आने वाले दिनों में उनके हाथ का डंडा कहीं खुद उनके ऊपर ही न चल जाए!

अन्य समाचार