मुख्यपृष्ठनए समाचारस्कूली बच्चों में बंटेगा प्रकाशवाला प्यार! ...विद्यार्थियों ने खुद रोबोटिक लैब में...

स्कूली बच्चों में बंटेगा प्रकाशवाला प्यार! …विद्यार्थियों ने खुद रोबोटिक लैब में बनाई राखी

सामना संवाददाता / ठाणे
इरादे नेक और हौसले बुलंद हों तो मंजिल हासिल हो ही जाती है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मशहूर सिग्नल स्कूल के विद्यार्थियों ने पुणे स्थित रोबोटिक लैब में एलईडी राखी बनाकर इसका जीता-जागता उदाहरण पेश किया है। स्कूली बच्चों में प्रकाशवाला प्यार बंटेगा। बता दें कि सिग्नल स्कूल के विद्यार्थियों ने राखी बनाकर और स्कूली बच्चों को राखी बांधकर रक्षाबंधन का त्योहार मनाया। इस वर्ष इन राखियों को बाजार में नहीं बेचा गया, जबकि अगले वर्ष रक्षाबंधन के अवसर पर इन राखियों को बाजार में भी बेचा जाएगा।

बता दें कि बाजार में कार्टून और विभिन्न तकनीकों की विशेषता वाली राखियां उपलब्ध हैं। सिग्नल स्कूल के बच्चों ने अपने रोबोटिक्स लैब पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में अपने साथी छात्रों के लिए विशेष एलईडी राखी बनाकर कारनामा कर दिखाया है। गौरतलब है कि ८ साल पहले समर्थ भारत व्यासपीठ और ठाणे मनपा शिक्षा विभाग ने मिलकर ठाणे स्थित तीन हाथ नाका ब्रिज के नीचे सिग्नल स्कूल की शुरुआत की थी।

रोबोटिक लैब का कमाल
सीडीबी बैंक के सहयोग से सिग्नल स्कूल में रोबोटिक्स लैब स्थापित की गई है और चिल्ड्रन टेक सेंटर के माध्यम से विशेषज्ञ प्रशिक्षकों को भी काम पर रखा जा रहा है। इन शिक्षकों की मदद से बच्चे रोबोटिक्स सीख रहे हैं। बच्चों ने डेढ़ वोल्ट बटन सेल और एलईडी बल्ब से सुंदर राखी बनाई है।

अत्याधुनिक लैब्स उपलब्ध
सिग्नल स्कूल में कला, खेल, कंप्यूटर, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के साथ-साथ मुख्यधारा की शिक्षा में आधुनिक और व्यावहारिक शिक्षा प्रदान करने के लिए स्कूल में कंप्यूटर लैब, साइंस लैब और रोबोटिक्स लैब शुरू किए गए हैं। हाल ही में पुणे में स्कूल के बच्चों ने भी राष्ट्रीय स्तर की रोबोटिक्स प्रतियोगिता में प्रतियोगियों को टक्कर दी। समर्थ भारत व्यासपीठ के निदेशक उल्हास कार्ले ने कहा कि सिग्नल स्कूल हमेशा त्योहारों की पवित्रता को बनाए रखते हुए जिज्ञासा बढ़ाने की कोशिश करता है।

अन्य समाचार