मुख्यपृष्ठटॉप समाचारबाप्पा देख रहे हो ना, अमित भाई के मुख से धोखेबाजी की...

बाप्पा देख रहे हो ना, अमित भाई के मुख से धोखेबाजी की भाषा!

सामना संवाददाता / मुंबई
जो धोखा देते हैं उन्हें उचित सजा मिलनी चाहिए। महाराष्ट्र में हिंदू विरोधी राजनीति समाप्त करनी है। राजनीति में सब कुछ सहन करो लेकिन धोखा बर्दाश्त न करो, ऐसी भाषणबाजी करते हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कल मुंबई में गणपति दर्शन के उपलक्ष्य में भाजपा का राजनीतिक एजेंडा चलाने का प्रयास किया।
गणपति दर्शन के उपलक्ष्य में मुंबई के एकदिवसीय दौरे पर आए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भाजपा के नगरसेवकों और पदाधिकारियों से संवाद साधा। गणराय के दर्शन की आस लगाकर आए शाह ने भाजपा पदाधिकारियों से संवाद साधते हुए मुंबई की राजनीति और मनपा पर भाजपा का वर्चस्व स्थापित करने की बात कही। आगामी मुंबई मनपा के चुनाव में १५० सीटें जीतने की तैयारी में लग जाओ और मैदान में उतर जाओ। ऐसा आदेश भाजपा कार्यकर्ताओं को दिया। दो सीटों के लिए वर्ष २०१४ में शिवसेना ने युति तोड़ ली। हमने छोटा भाई-बड़ा भाई कभी नहीं किया। शिवसेना ने ही युति तोड़कर हमारी पीठ में खंजर घोंपा, ऐसा बेबाक आरोप करते हुए अमित शाह ने कहा कि जो धोखा देते हैं उन्हें सजा होनी चाहिए। मुंबई मनपा पर भाजपा का महापौर बैठना चाहिए।
नरेंद्र मोदी, देवेंद्र फडणवीस के नाम पर वोट मांगा और जीतकर आए और हमारी पीठ में खंजर घोंपा। उन्हें जगह दिखाने का समय आ गया है। राजनीति में सब कुछ सहन करो लेकिन धोखा मत दो। जो धोखा देते हैं उन्हें उचित सजा मिलनी चाहिए, ऐसा अमित शाह ने कहा। उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी अमित शाह के सुर में सुर मिलाते हुए मुंबई मनपा के चुनाव का मंसूबा जाहिर किया। मुंबई मनपा का आगामी चुनाव हमारे लिए आखिरी है, यह समझकर ये चुनाव लड़ो। अभी नहीं तो कभी नहीं, ऐसा देवेंद्र फडणवीस ने कहा। मुंबई आए अमित शाह ने कल सुबह लालबाग के राजा का दर्शन किया। उसके बाद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के सरकारी आवास पर, साथ ही भाजपा मुंबई अध्यक्ष आशीष शेलार के बांद्रा स्थित सार्वजनिक गणेशोत्सव में जाकर गणपति का दर्शन किया।

हर बात पर प्रतिक्रिया देना आवश्यक नहीं- युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बयान पर शिवसेना नेता व युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे ने कुछ बोलने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि हर बात पर प्रतिक्रिया देना आवश्यक नहीं है। उन्होंने कहा कि मैं अमित शाह के बयान पर कुछ नहीं बोल सकता। जो असली साजिश रची गई थी, वह लोगों के सामने आ रही है। मैं उस पर कुछ नहीं बोलूंगा। आदित्य ठाकरे ने कहा कि मेरी प्रतिक्रिया लेने से पहले उन ४० लोगों की प्रतिक्रिया लेनी चाहिए, जिन्हें हम प्यार करते हैं और सम्मान देते हैं। अमित शाह के उस आरोप पर कि शिवसेना ने दो सीटों के लिए गठबंधन तोड़ा पर आदित्य ठाकरे ने कहा कि हर बात पर कहां तक बोलें। अहम बात यह है कि मुंबईकर और पूरा महाराष्ट्र हमारा खयाल रख रहा है और हमारे साथ है। आदित्य ठाकरे ने कहा, ‘मैं वर्तमान में भगवान गणेश के दर्शन कर रहा हूं और सभी देख रहे हैं कि इस बार लोगों का प्यार और आशीर्वाद मेरे साथ है।’

गणराया इनको सद्बुद्धि दें!, नाना पटोले का तंज
देश की जनता महंगाई, बेरोजगारी से त्रस्त है, देश की सुरक्षा और देश के ज्वलंत सवालों पर ध्यान देने की बजाय केवल राजनीतिक फायदे के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मुंबई दौरे पर आए थे। गणराया अमित शाह को देश को बेचने के लिए नहीं, बल्कि देश के हित में काम करने की सद्बुद्धि दें, ऐसा तंज कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कल अमित शाह पर कसा।
देश की एकता और अखंडता के लिए कांग्रेस की ओर से ७ सितंबर से कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत जोड़ो यात्रा निकाली जाएगी। राहुल गांधी इस यात्रा का नेतृत्व करेंगे। महाराष्ट्र में यह यात्रा नांदेड़ के देगुलर में ७ नवंबर को प्रवेश करेगी व आगे सोलह दिन में ३८३ किमी के बाद राज्य को पार करेगी। इस यात्रा की जानकारी देने के लिए आयोजित किए गए पत्रकार परिषद में मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्याध्यक्ष जीतू पटवारी, कांग्रेस विधि मंडल दल के नेता बालासाहेब थोरात, प्रदेशाध्यक्ष नाना पटोले उपस्थित थे। महाराष्ट्र में इस यात्रा के कार्यक्रम में बढ़त मिले, इसके लिए प्रयत्न शुरू हैं। ऐसी जानकारी इस मौके पर दी गई। इस अवसर पर नाना पटोले ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भाजपा ने राज्य और देश में सामाजिक, राजनीतिक वातावरण को बिगाड़ दिया है। देश की सीमा सुरक्षित नहीं है, हिंदुस्थानी सीमा में चीन ने घुसपैठ की है, जम्मू-कश्मीर का चुनाव अभी नहीं कराया जा रहा है। कश्मीरी पंडितों की हत्याएं बढ़ी है, देश की जनता महंगाई, बेरोजगारी से त्रस्त है, फिर भी राजनीतिक हित को सामने रखकर अमित शाह ने मुंबई का दौरा किया।
अशोक चव्हाण अनुपस्थित
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण इस पत्रकार परिषद में अनुपस्थित थे, जिसके कारण कई तर्क -वितर्क लगाए जा रहे हैं, परंतु अशोक चव्हाण के घर में धार्मिक कार्यक्रम था, उसके बाद वे नांदेड़ में दौरे पर होने के कारण इस पत्रकार परिषद में उपस्थित नहीं हो सके, ऐसा कांग्रेस की ओर से बताया गया।

अन्य समाचार