मुख्यपृष्ठनए समाचारबाप्पा चले परदेश!  बदलापुर से ४५,००० गणेश मूर्तियों को भेजा विदेश

बाप्पा चले परदेश!  बदलापुर से ४५,००० गणेश मूर्तियों को भेजा विदेश

पंकज तिवारी / ठाणे
गणपति बाप्पा की लोकप्रियता केवल महाराष्ट्र राज्य में ही नहीं बल्कि हिंदुस्थान सहित पूरे विश्व में फैली  हुई है। गणेश भक्त केवल हिंदुस्थान में ही नहीं जबकि अन्य देशों में भी मौजूद हैं। इसी का जीता जागता उदाहरण देखने को मिला है। इस साल करीब ४५,००० गणेश मूर्तियों को बदलापुर से विदेश रवाना किया गया हैं। अब तक कि सबसे अधिक निर्यात की जानेवाली गणेश प्रतिमाएं हैं।
बता दें कि महाराष्ट्र राज्य में गणेश भक्त अपने चहेते बाप्पा को प्रसन्न करने के लिए एक से एक उपाय खोज निकालते हैं। महाराष्ट्र राज्य में गणेशोत्सव के दौरान लाखों गणेश मूर्तियों का निर्माण होता है, वहीं लाखों मूर्तियों का विसर्जन होता है। गणेश मूर्तियां बनानेवाले कई लोग अपना उदर निर्वाह इसी व्यवसाय से करते हैं। इन्हीं में बदलापुर के एक युवा उद्यमी निमेश जनवाद ने पिछले ६ वर्षों से गणेश मूर्तियों का निर्यात शुरू किया था। मसालाकिंग धनंजय दातार ने उन्हें एक मौका दिया और शुरू में कुछ सौ गणेश मूर्तियों का ऑर्डर दिया। इसके बाद धीरे-धीरे साल बीतते गए। इस साल निमेश ने ४५,००० से अधिक गणेश प्रतिमाओं को विदेश भेजा है। निमेश ने वर्ष २०१८ में ३,००० और २०१९ में ३,५०० गणेश मूर्तियों को विदेश भेजा था। साल २०२० में कोरोना के कारण निर्यात बंद होने से उन्हें ४० लाख रुपए का नुकसान हुआ था। निमेश ने बताया कि इस वर्ष अधिक मांग है। वहीं विदेशों के साथ स्वदेश में भी गणेश मूर्तियों की मांग अधिक है।
इन देशों में अधिक मांग
२०१७ में ऑस्ट्रेलिया और कनाडा सहित खाड़ी देशों में अधिक मांग थी। इस वर्ष निमेश की गणेश प्रतिमा की अमेरिका से सबसे ज्यादा मांग है। वहीं, ऑस्ट्रेलिया, दुबई, कनाडा, मॉरीशस, सिंगापुर, यूरोप और खाड़ी देशों से गणेश प्रतिमाओं की मांग है।

अन्य समाचार