मुख्यपृष्ठनए समाचारयुवा हो जाएं सावधान! ... थायरॉइड कैंसर का बढ़ा खतरा

युवा हो जाएं सावधान! … थायरॉइड कैंसर का बढ़ा खतरा

• तेजी से फैल रही बीमारी युवा महिलाओं में १२१ फीसदी की
सामना संवाददाता / मुंबई
युवाओं को अब सावधान होने की जरूरत है क्योंकि उनमें थायरॉइड वैंâसर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। चिंता की बात यह है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को इसका अधिक खतरा होता है। यह वैंâसर थायरॉइड ग्रंथि में धीरे-धीरे बढ़ती रहती है। थकान, त्वचा, बाल, नाखून में बदलाव जैसे अन्य दुर्लभ लक्षण इसके होते हैं।
थायरॉइड वैंâसर के मरीज न सिर्फ दुनियाभर में बल्कि हिंदुस्थान में भी तेजी से बढ़ रहे हैं। पिछले ३५ वर्षों में दुनियाभर के अध्ययनों से पता चला है कि थायरॉइड वैंâसर की घटनाओं में तीन गुना वृद्धि हुई है। महिलाओं में थायरॉइड वैंâसर के मामले पुरुषों की तुलना में चार गुना अधिक होते हैं। एक अध्ययन में बताया गया है कि ३० साल से कम उम्र की महिलाओं में थायरॉइड वैंâसर के मामलों में १२१ फीसदी, ३०-४४ आयु वर्ग में १०७ फीसदी और ४५-५९ आयु वर्ग में ५० फीसदी की वृद्धि हुई है।

क्या है थायरॉइड कैंसर?
जेजे अस्पताल के ईएनटी विशेषज्ञ डॉ. श्रीनिवास चव्हाण ने कहा कि थायरॉइड ग्रंथि में शुरू होनेवाली कोशिकाओं की अनियमित वृद्धि को थायरॉइड वैंâसर कहा जाता है। गले के आधार पर श्वास नली के पास एक ग्रंथि होती है, जिसे थायरॉइड कहा जाता है। इसमें दाएं और बाएं लोब होते हैं, जो एक तितली के आकार का होता है। थायरॉइड हार्मोन पैदा करता है। यह शरीर के वजन, रक्तचाप, हृदय गति, रक्त प्रवाह, शरीर के तापमान और अन्य कारकों को नियंत्रित करता है।

इसके हैं तीन प्रकार
थायरॉइड वैंâसर के तीन प्रकार हैं। इनमें विभेदित थायरॉइड वैंâसर, एनाप्लास्टिक थायरॉइड वैंâसर और मेडुलरी थायरॉइड वैंâसर शामिल हैं। कुछ प्रकार के थायरॉइड वैंâसर बहुत आक्रामक हो सकते हैं और अधिकांश धीरे-धीरे विकसित होते हैं। वृद्धि

अन्य समाचार