मुख्यपृष्ठसमाचारबेस्ट का मिशन ‘जीरो एक्सीडेंट'! १० सालों में तेजी से घटी...

बेस्ट का मिशन ‘जीरो एक्सीडेंट’! १० सालों में तेजी से घटी बस दुर्घटनाएं

सामना संवाददाता / मुंबई
बेस्ट बसों से होने वाली जानलेवा दुर्घटनाएं बीते दस सालों में निचले स्तर तक पहुंचाने में प्रशासन सफल रहा है। इस साल बेस्ट बसों की चपेट में आने से केवल दो लोगों की मौत हुई है। बेस्ट के अधिकारियों ने बताया कि आने वाले वर्ष में जीरो एक्सीडेंट मिशन को सामने रखते हुए इस पर काम किया जा रहा है। गंभीर और मामूली हादसों के आंकड़ों को कम करने में बेस्ट कर्मियों को सफलता मिली है। बताया गया है कि बेस्टकर्मियों को लगातार दिए जा रहे प्रशिक्षण के चलते यह संभव हो सका है। इससे दुर्घटनाओं की संख्या कम हो गई। बेस्ट उपक्रम के प्रशिक्षण विभाग के केंद्र में वर्ष-दर-वर्ष परिवहन प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले लोगों की संख्या में भी लगातार वृद्धि हुई है। पिछले साल मुंबई में दुर्घटना में मरने वालों की संख्या नौ थी, जबकि इस साल यह केवल दो है।
५,९५३ कर्मचारियों को दिया प्रशिक्षण
बेस्ट के बेड़े में स्वामित्व और किराए की बसों समेत करीब ३,५०० बसें हैं। इसके लिए यहां स्थायी के साथ-साथ किराए पर निजी वाहन चालक भी बसें चलाते हैं। पिछले दस वर्षों में इन कर्मचारियों के प्रशिक्षण की संख्या में भी वृद्धि हुई है। आंकड़ों के मुताबिक साल २०१३-१४ में केवल ३५३ प्रशिक्षुओं ने प्रशिक्षण लिया। पिछले साल २०२०-२१ में यह आंकड़ा १,६५० था जबकि २०२१-२२ में यह आंकड़ा ५,९५३ पर पहुंच गया।

अन्य समाचार