मुख्यपृष्ठसमाचारस्वाइन फ्लू से सावधान!

स्वाइन फ्लू से सावधान!

सामना संवाददाता / मुंबई
राज्य में स्वाइन फ्लू का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। इसके कहर ने अब तक ४९ लोगों को यमपुरी पहुंचा चुका है। चिकित्सकों की मानें तो कोरोना की तरह ही स्वाइन फ्लू भी बीपी और शुगर से पीड़ित मरीजों के लिए घातक साबित हो रहा है। साथ ही चपेट में आने के बाद उन्हें मौत की नींद सुला रहा है। राज्य में स्वाइन फ्लू से हुई मौतों में ७५ फीसदी यानी ३७ मरीज बीपी और डायबिटीज से पीड़ित पाए गए।
उल्लेखनीय है कि राज्य में कोरोना के साथ ही स्वाइन फ्लू से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। इसके साथ ही मरीजों की मौतों का भी ग्राफ भी बढ़ रहा है। हालांकि राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए गए निरीक्षण में पाया गया है कि स्वाइन फ्लू से बीपी और शुगर से जूझ रहे मरीजों की मौत अधिक हुई है। आंकड़ों के मुताबिक इस बीमारी से हुई कुल मौतों में से १९ संक्रमित बीपी और १८ शुगर से पीड़ित थे।
१५ मरीजों में नहीं थी कोई बीमारी
राज्य स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक स्वाइन फ्लू से संक्रमित १५ ऐसे मरीजों की मौत हुई, जिनमें कोई भी बीमारी नहीं थी। कुल मरीजों की तुलना में यह आंकड़ा ३० फीसदी है। इसके अलावा दो मरीजों में स्वाइन फ्लू के साथ ‘डायलेटेड कार्डियोमायोपैथी’ (रक्त पंप करने में हृदय की अक्षमता), जबकि दो मरीजों में हाइपोथायरायडिज्म (शरीर में थायराइड हार्माेन का अपर्याप्त उत्पादन) की समस्या थी। इसी तरह २६ सप्ताह की गर्भवती, अस्थमा, दिमागी बुखार, दिल की बीमारी, हाइपर टेंशन, मोटापा और रैबिट वायरल हेमोरेजिक डिजीज से पीड़ित एक-एक मरीज मिले।
ठाणे और पुणे में ४२ फीसदी हुई मौतें
राज्य के १३ जिलों में स्वाइन फ्लू से ४९ मौतें हुई हैं। इनमें से ठाणे जिले में १२ और पुणे में ९ समेत कुल २१ मौतें हुई हैं, जो कुल मौतों का ४२ प्रतिशत हिस्सा है। इसके अलावा कोल्हापुर ७, नासिक में ५, नगर, नागपुर और सातारा में क्रमश: ३-३ मौतें और शेष जिलों में १-१ मौतें हुई हैं।

अन्य समाचार