मुख्यपृष्ठनए समाचारबिकरू कांड: दोषमुक्त हुए 7 गैंगस्टर!  ... 23 को 10-10 साल की सजा,...

बिकरू कांड: दोषमुक्त हुए 7 गैंगस्टर!  … 23 को 10-10 साल की सजा, 50 हजार का जुर्माना

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पहले कार्यकाल में चर्चित कानपुर देहात के बिकरु कांड में न्यायालय का फैसला आ गया है। चौबेपुर क्षेत्र के बिकरू गांव में 2 जुलाई 2020 को दबिश देने गई पुलिस टीम पर विकास दुबे गैंग ने फायरिंग कर दी थी। घटना में आठ पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी। कई लोग घायल हो गए थे। मुख्य आरोपी विकास दुबे को यूपी पुलिस उज्जैन से लेकर आ रही थी, रास्ते में गाड़ी पटल गयी थी। पुलिस ने तब बताया था कि विकास भागने की कोशिश में पुलिस पर गोली चला दिया था। जवाबी कार्रवाई में पुलिस की गोली से मारा गया था। बहुत दिनों तक यूपी पुलिस गाड़ी पलटने का हौवा खड़ा कर अपराधियों में दहशत पैदा करती थी। मामले में पुलिस ने 30 आरोपियों पर गैंगस्टर की कार्रवाई की थी। उसी मामले की सुनवाई अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश पंचम दुर्गेश की अदालत में चल रही है। विशेष लोक अभियोजक अमर सिंह भदौरिया ने बताया कि मंगलवार को अदालत ने मामले में लंच पूर्व सुनवाई करते हुए तीस आरोपियों में सात आरोपियों को दोषमुक्त किया गया है। इनमें प्रशांत उर्फ डब्बू, अरविंद उर्फ गुड्डन, संजू उर्फ संजय दुबे, सुशील तिवारी, राजेंद्र मिश्रा, बालगोविंद और रमेश चंद्र को अदालत ने साक्ष्य के अभाव में दोषमुक्त कर दिया है। वहीं, अन्य आरोपियों को 10-10 साल की सजा सुनाई गई है। साथ ही, प्रत्येक पर 50 हजार का जुर्माना भी लगाया है।

अन्य समाचार