मुख्यपृष्ठखबरेंपोस्टल बैलेट में पिछड़ी भाजपा! ...सरकारी कर्मचारी योगी सरकार से नाराज

पोस्टल बैलेट में पिछड़ी भाजपा! …सरकारी कर्मचारी योगी सरकार से नाराज

विक्रम सिंह / सुल्तानपुर। यूपी में भाजपा को चुनाव में प्रचंड बहुमत तो मिल गया लेकिन पुरानी पेंशन को लेकर सरकारी कर्मचारियों की योगी सरकार से नाराजगी भी सामने आ गई है। राजधानी लखनऊ सहित ज्यादातर सीटों पर पोस्टल बैलेट से वोटिंग में सपा आगे निकल गई है और भाजपा पिछड़ गई है। यहां तक कि सीएम योगी के गोरखपुर जिले में भी पार्टी अकेले मुख्यमंत्री की ही सीट पर आगे निकल पाई। कई सालों से राज्य कर्मचारी पुरानी पेंशन योजना के कार्यन्वयन के लिए आंदोलित हैं। वे योगी सरकार से इसे लागू करने की मांग कर रहे हैं, जबकि सरकार इसे लागू नहीं करना चाहती है। नतीजा रहा कि भाजपा डाक मतपत्र में दो तिहाई से ज्यादा सीटों पर सपा से फिसड्डी साबित हुई। पूर्वांचल से लेकर अवध, बुंदेलखंड और रुहेलखंड तक जिलों में सपा ही आगे बैलेट पेपर की वोटिंग में आगे रही। हालांकि ब्रज और पश्चिम क्षेत्र में भाजपा जरूर आगे रही। नोएडा की तीनों सीटों जेवर, दादरी और नोएडा में भाजपा ने पोस्टल बैलेट में बढ़त दर्ज की। इसी तरह गाजियाबाद की पांचों सीटों पर भी पोस्टल बैलेट में भाजपा आगे रही। यह क्रम मेरठ-सहारनपुर मंडल के साथ बिजनौर तक बरकरार रहा। यहां की केवल मेरठ की सरधना विधानसभा सीट पर पोस्टल बैलेट में भी भाजपा पीछे रही।

पूर्वांचल व अवध में सपा रही आगे
वाराणसी में पोस्टल बैलेट का मैच टाई होने जैसा है, जहां चार सीटों पर भाजपा तो चार पर सपा ने पोस्टल बैलेट में बढ़त दर्ज की। पूर्वांचल के ही मऊ, बलिया, आजमगढ़, चंदौली, गाजीपुर, जौनपुर, सोनभद्र समेत बुंदेलखंड व अवध की सीटों पर पोस्टल वोटिंग में भाजपा पीछे रही।

सीएम योगी के शहर में आठ सीटों पर सपा रही आगे
सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर में शहर सीट के अलावा बाकी आठ सीटों पर पोस्टल बैलेट से मतदान करने वालों की पसंद सपा रही। योगी आदित्यनाथ को १३२९ मत मिले, जबकि सपा की सुभावती शुक्ला को १२१३ वोट पड़े। गोरखपुर-बस्ती मंडल की ४१ सीटों में भाजपा गठबंधन ने ३४ पर जीत दर्ज की है, लेकिन पोस्टल बैलेट में सिर्फ दो पर बढ़त मिली है।

अलीगढ़ और लखनऊ जैसे जिलों में भी पिछड़ गई भाजपा
अलीगढ़ में सभी सात सीटों पर इस बार भाजपा ने जीत दर्ज की है, लेकिन पोस्टल बैलेट में चार पर पिछड़ गई है। इन चारों सीटों पर सपा ने बढ़त दर्ज की है। गोरखपुर जैसा हाल लखनऊ का भी रहा। यहां यहां लखनऊ पूर्व सीट से आशुतोष टंडन को ही पोस्टल बैलेट की गिनती में बढ़त मिली, शेष आठ सीटों पर सपा भारी पड़ी। रुहेलखंड में चार जिलों की २५ सीटों पर भाजपा ने भले ही २० सीटें जीतीं, लेकिन पोस्टल बैलेट में तीन सीटों बरेली और बदायूं की दातागंज व सहसवान पर ज्यादा वोट ले पाई। मुरादाबाद मंडल में १९ सीटों में १५ पर पोस्टल बैलेट में चार पर भाजपा ने बढ़त हासिल की। प्राथमिक शिक्षक संघ अवध क्षेत्र के मंडल सचिव दिलीप पांडेय व अटेवा के अध्यक्ष अशोक सिंह गौरा का कहना है कि ओपीएस को चुनाव में मुद्दा बनाने में हमें सफलता मिली है। आशा है कि नवगठित सरकार हमारी उम्मीदों पर खरी उतरेगी

अन्य समाचार