मुख्यपृष्ठनए समाचारभाजपा अब तक की सबसे भ्रष्ट सरकार! ...पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने...

भाजपा अब तक की सबसे भ्रष्ट सरकार! …पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने खोली मोदी सरकार की पोल

केंद्र सरकार लोकतांत्रिक संस्थाओं को कर रही कमजोर
सामना संवाददाता / नई दिल्ली
बीते दिनों चुनावी बॉन्ड देश का सबसे बड़ा स्कैम बनकर सामने आया है। विपक्ष बार-बार केंद्र की भाजपा सरकार पर यह आरोप लगा चुका है। लेकिन अब विपक्ष ही नहीं बल्कि भाजपा से जुड़े वरिष्ठ नेताओं का भी यह मानना है कि भाजपा अब तक की सबसे भ्रष्ट सरकार है। दरअसल, चुनावी बॉन्ड को बड़ा घोटाला और नोटबंदी के काले धन को सफेद में बदलने का तरीका करार देते हुए पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार अपने भ्रष्ट कृत्यों को गोपनीयता की चादर से ढक देती है और उम्मीद करती है कि लोगों को उसके बारे में कभी पता नहीं चलेगा। सिन्हा ने अपने एक साक्षात्कार में लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के ४०० से अधिक सीटें जीतने के दावे को खारिज करते हुए कहा कि विपक्षी गठबंधन ‘इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इन्क्लूसिव अलायंस’ (‘इंडिया’) की ताकत को कम आंका जा रहा है।
८६ वर्षीय सिन्हा ने कहा कि वह राजनीति से संन्यास ले चुके हैं और वापसी की उनकी कोई योजना नहीं है, जबकि उनके पूर्व संसदीय क्षेत्र हजारीबाग से अनेक लोग उनसे इस बार चुनाव लड़ने का आग्रह कर चुके हैं। सिन्हा ने २०१८ में भाजपा छोड़ दी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र में राजग सरकार लोकतांत्रिक संस्थाओं को कमजोर कर रही है। उन्होंने बुधवार को सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर लिखा था, `यह सरकार तब तक ईमानदार है जब तक सत्ता में है। जैसे ही यह सत्ता से बाहर होगी तो भारत के लोगों को पता चलेगा कि यह अब तक की सबसे भ्रष्ट सरकार है।’

५५ फीसदी ने माना मोदी सरकार को भ्रष्ट
सीएसडीएस लोकनीति सर्वे की रिपोर्ट ने २०१४ में भ्रष्टाचार के खिलाफ मोर्चा खोलकर सत्ता में आनेवाले नरेंद्र मोदी की पोल खोलकर रख दी है। दरअसल, एक सर्वे में ५५ फीसदी लोगों ने माना है कि पिछले पांच वर्षों में देश में भ्रष्टाचार बढ़ा है और उसके लिए भाजपा व मोदी सरकार जिम्मेदार है। सर्वे में शामिल ५८ फीसदी लोगों का मानना है कि कि पिछले पांच सालों में भ्रष्टाचार बढ़ा है। लोकसभा चुनाव से पहले आए इस सर्वे के नतीजे मोदी सरकार की पोल खोलने के लिए काफी है, जिसका दावा हैं कि उनकी लड़ाई भ्रष्टाचार के खिलाफ है।

अन्य समाचार