मुख्यपृष्ठनए समाचारभाजपा नेता अमित शाह की कुटिल चाल; मुंबई का महत्व करना है...

भाजपा नेता अमित शाह की कुटिल चाल; मुंबई का महत्व करना है कम अमदाबाद को देना है महत्व! अंबादास दानवे ने किया खुलासा

सामना संवाददाता / मुंबई
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह वर्तमान में मुंबई के दौरे पर हैं। इस दरम्यान उन्होंने लालबाग के राजा सहित विभिन्न गणपति के दर्शन सपरिवार किए। उनके साथ मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सहित भाजपा के अन्य नेता उपस्थित थे। मुंबई मनपा के चुनाव को लेकर शाह का यह दौरा है, मुंबई मनपा के चुनाव के संदर्भ में अमित शाह ने बयान भी दिया है। लेकिन गृहमंत्री अमित शाह की कुटिल चाल को लेकर महाराष्ट्र विधान परिषद के प्रतिपक्ष के नेता अंबादास दानवे ने असली खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि अमित शाह ने मुंबई पर अलग प्रेम दिखाने का काम किया है। उनका असली मकसद यह है कि मुंबई के महत्व को कम किया जाए और अमदाबाद के महत्व को बढ़ाया जाए। भाजपा की ओर से सतत प्रयास किए जा रहे हैं। मुंबई के अनेक कार्यालय दिल्ली हटाए होते तो बात समझ में आती लेकिन मुंबई के कार्यालय अमदाबाद ले जाए गए।
मुंबई-दिल्ली बुलेट ट्रेन शुरू न करते हुए दिल्ली-अमदाबाद बुलेट ट्रेन शुरू किया, इसका अर्थ यह है कि भूमिपुत्रों पर प्रेम तो दिखाना है पर मुंबई के महत्व को कम करके अमदाबाद का महत्व बढ़ाना है। अमित शाह और भाजपा की कुटिल चाल शुरू है। भाजपा के अधीन पूरा देश है, फिर उन्हें मुंबई मनपा किसलिए चाहिए? ऐसा सवाल दानवे ने किया। केवल बैठक लेने से कुछ नहीं होता, शिवसेना के चालीस विधायकों को तोड़ने के बाद भी अन्य दलों के पीछे भाजपा को भागना पड़ रहा है, इससे स्पष्ट होता है कि भाजपा की ताकत अधूरी है, ऐसा तंज दानवे ने भाजपा पर कसा। महाराष्ट्र की जनता शिवसेना के साथ रहेगी, ऐसा विश्वास भी उन्होंने व्यक्त किया। राज्यपाल पर निशाना साधते हुए दानवे ने कहा कि महाविकास आघाड़ी सरकार ने अनेक निर्णय के संदर्भ में पत्र व्यवहार किए, लेकिन राज्यपाल ने तत्परता नहीं दिखाई। अब ‘ईडी’ सरकार के कार्यकाल में प्रलंबित १२ विधायकों की सूची पर जल्द निर्णय होगा, इस पर राज्यपाल की तत्परता भी दिखाई दे रही है, ऐसा कटाक्ष दानवे ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पर किया। मतलब जिन निर्णयों के लिए दो-दो, तीन-तीन वर्ष राह देखना पड़ता था, वे निर्णय दो-तीन मिनट में लिए जा रहे हैं, ऐसा दानवे ने कहा। ‘सामना’ ज्वलंत विचारों का अखबार है, इसका विचार देश स्तर पर पहुंचता है, ऐसा दानवे ने इस मौके पर कहा।

अन्य समाचार