मुख्यपृष्ठखबरें 'भाजपा कभी जनता के साथ विश्वासघात नहीं करती बल्कि राजनीतिक दलों को...

 ‘भाजपा कभी जनता के साथ विश्वासघात नहीं करती बल्कि राजनीतिक दलों को तोड़ना उन  दलों को शुद्ध करना है’ – चिदंबरम ने भाजपा पर कसा तंज

नई दिल्ली: महाराष्ट्र के बाद अब बिहार में सत्ता परिवर्तन हो गया, लेकिन भाजपा वहां मात खा गई। नीतीश कुमार मंगलवार को एनडीए गठबंधन से अलग हो गए। अब वो महागठबंधन के साथ मिलकर सरकार बना रहे और मुख्यमंत्री की कुर्सी अपने पास ही रखी है। ऐसे में अब भाजपा के विरोधियों को उस पर निशाना साधने का मौका मिल गया है। इसी कड़ी में कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने भी भाजपा पर तंज कसा है।

चिदंबरम ने ट्वीट कर लिखा कि भाजपा कभी किसी राज्य के लोगों के साथ विश्वासघात नहीं करती है। अन्य दलों से दलबदल को प्रोत्साहित करना दलबदलुओं के उत्थान के लिए एक कल्याणकारी उपाय है। अन्य राजनीतिक दलों को तोड़ना उन दलों को शुद्ध करना है। राज्य सरकारों को अस्थिर करना उन राज्यों में शासन में स्थिरता लाना है। दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा कि विपक्षी नेताओं के खिलाफ जांच शुरू करना संसद द्वारा पारित कानूनों की प्रभावशीलता का परीक्षण करना है ताकि कानूनों को और अधिक धारदार बनाया जा सके। कांग्रेस मुक्त भारत चीन, रूस, तुर्की, वियतनाम और उत्तर कोरिया जैसे एक पार्टी शासन के माध्यम से लोकतंत्र को मजबूत करना है।

दरअसल जब नीतीश कुमार एनडीए से अलग हुए तो भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि नीतीश कुमार ने बिहार के जनादेश के साथ विश्वासघात किया है। उन्होंने हर बार बिहार के जनादेश का अपमान किया। प्रसाद के मुताबिक नीतीश को 2020 वाली जीत पीएम मोदी की वजह से मिली थी, अगर भाजपा आपको परेशान कर रही थी तो आप 2 साल तक क्यों रहे? आपने केवल सत्ता का आनंद लिया।

 

अन्य समाचार