मुख्यपृष्ठनए समाचारएमपी में भाजपा ने शुरू की उम्मीदवारों की लूट! ...दोपहर तक ‘आप’...

एमपी में भाजपा ने शुरू की उम्मीदवारों की लूट! …दोपहर तक ‘आप’ में रहा शख्स शाम को दिया भाजपा ने टिकटट

सामना संवाददाता / भोपाल
पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र की भाजपाई सरकार ने विगत ९ वर्षों में केंद्रीय एजेंसियों की धौंस दिखाकर विपक्षी दलों को तोड़ने, समर्पण या खत्म करने का हरसंभव प्रयास किया है। विपक्षी दलों के सांसदों, विधायकों व नेताओं को तोड़कर दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बनी भाजपा पहले गोवा, कर्नाटक मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र की सरकारें लूटने के लिए कुख्यात हुर्इं। बाद में भाजपा ने विपक्षी दलों की पूर्ववर्ती सरकारों की योजनाओं का नाम बदलकर अपने नाम पर पेश करके योजनाओं की लूट शुरू की, अब भाजपा एक बार फिर एमपी में विपक्षी दलों के उम्मीदवारों को लूटने और अपने निष्काषित उम्मीदवारों को दोबारा टिकट देने में जुटी है। इसका शर्मनाक उदाहरण उस मध्यप्रदेश में देखने को मिला है, जहां २० वर्षों से भाजपा की ही सरकार है।
बता दें कि मध्य प्रदेश विधानसभा के लिए होनेवाले चुनावों के लिए भाजपा ने गुरुवार की शाम ३९ उम्मीदवारों के नामों की सूची जारी की, लेकिन इस सूची में शामिल ३९ नामों में से २ उम्मीदवार ऐसे हैं जिनके नाम चर्चा का विषय बन गए हैं। ये नाम हैं डॉ. विजय आनंद मारवी और राजकुमार कर्राहे। मारवी को बिचिया निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवारी दी गई है। उन्होंने गुरुवार को सुबह में जबलपुर मेडिकल कॉलेज के सहायक अधीक्षक पद से इस्तीफा दिया और शाम को उनका नाम भाजपाई उम्मीदवारों की सूची में शामिल पाया गया। इसी तरह बालाघाट जिले का लांजी निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार घोषित किए गए राजकुमार कर्राहे ने गुरुवार को आम आदमी पार्टी छोड़ी और कुछ ही घंटों के बाद उन्हें भाजपा से टिकट मिल गया। मुरैना सुमावली सीट से एंदल सिंह कंसाना को उम्मीदवार बनाया गया है। कंसाना कांग्रेस में थे, उनको मंत्री बनाया था। भाजपा में शामिल होने के बाद भी वे पिछला उपचुनाव हार गए थे। शिवपुरी पिछौर से प्रीतम लोधी को भाजपा ने उम्मीदवार बनाया है। लोधी उमा भारती के करीबी हैं। वे एक बार चुनाव लड़ चुके हैं। लोधी को पार्टी ने ब्राह्माणों पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के चलते पार्टी से निकाल दिया था। बाद में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोधी की पार्टी में वापसी कराई। भोपाल मध्य सीट से भाजपा ने धु्रवनारायण सिंह को टिकट दिया है। ध्रुवनारायण सिंह मध्य सीट से विधायक रह चुके हैं। हालांकि, शेहला मसूद हत्याकांड में उनका नाम उछलने के बाद पार्टी ने उनका टिकट काट दिया था। बाद में सीबीआई ने ध्रुवनारायण सिंह को क्लीन चिट दे दी थी। इसके बाद से वह लगातार मध्य में टिकट के लिए प्रयास कर रहे थे।
गुरुवार की शाम भाजपाई उम्मीदवारों की सूची में लांजी से राजकुमार कर्राहे का नाम देखकर हर कोई हैरान रह गया। खासकर, भाजपा के पुराने और निष्ठावान इच्छुकों को इससे गहरा आघात पहुंचा। क्योंकि भाजपा का उम्मीदवार बनने यानी सूची घोषित होने से महज चार घंटे पहले तक राजकुमार आम आदमी पार्टी (आप) में थे। इतना ही नहीं भाजपाई सूची घोषित होने के दौरान भी परिसर में लगे पोस्टर्स में राजकुमार ‘आप’ के पोस्टरों में आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल के साथ ही दिख रहे थे। वैसे राजकुमार ने पहले लांजी प्रदेश युवा भाजपाई नेता के रूप में ही राजनीति में पदार्पण किया था। वे वर्ष २०१२ तक लांजी जनपद पंचायत के अध्यक्ष भी रह,े लेकिन वर्ष २०१८ के चुनावों में उन पर पार्टी के विरोध में काम करने का आरोप लगा और उसके बाद राजकुमार ‘आप’ में शामिल हो गए थे।

अन्य समाचार

लालमलाल!