मुख्यपृष्ठटॉप समाचारवाह रे भाजपा तेरा राज, सिस्टम बना औरतबाज! योगीराज में व्यभिचारी हुए...

वाह रे भाजपा तेरा राज, सिस्टम बना औरतबाज! योगीराज में व्यभिचारी हुए सरकारी कर्मचारी

-तबादले के लिए जेई ने कर दी पत्नी की मांग
-आहत लाइनमैन ने दे दी जान
सामना संवाददाता / लखीमपुर खीरी। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार महिलाओं को सुरक्षा देने का हमेशा राग अलापती है लेकिन महिला सुरक्षा का दावा करनेवाले योगीराज में मानवता शर्मसार हो रही है, इसका ताजा उदाहरण लखीमपुर खीरी में सामने आया है। योगीराज में सरकारी कर्मचारी व्यभिचारी और पूरा सिस्टम ‘औरत’बाज हो गया है। तबादले के लिए पत्नी की मांग करनेवाले जेई से आहत हुए लाइनमैन ने डीजल उड़ेलकर मौत को गले लगा लिया है। इस घटना ने यूपी के भाजपा राज में महिला सुरक्षा और मुख्यमंत्री योगी की योग्यता पर एक बार फिर सवाल खड़े कर दिए हैं। इस घटना से यूपी की जनता इतनी आहत हुई है कि लोग कह रहे हैं वाह रे भाजपा तेरा राज, सिस्टम बन गया ‘औरत’बाज।
बता दें कि भाजपा का सिस्टम और सियासत औरतबाजी में कुछ इस कदर लीन है कि उसे पश्चिम बंगाल के चुनाव में औरतबाजी के चक्कर में ही हार का सामना करना पड़ा था। इसका खुलासा खुद भाजपा के पुराने संघी नेता और पूर्व राज्यपाल पहले ही कर चुके हैं। उन्होंने दावा किया था कि विष कन्याओं के कारण भाजपा की हार हुई थी और ये विष कन्याएं टीएमसी ने भेजी थी।
उन्होंने ये भी दावा किया था कि टीएमसी को भाजपा के इन नेताओं की कमजोरी पता थी। ये नेता टीएमसी के बिछाए जाल में उलझ गए। उन्होंने विषकन्याओं का नाम भी बताया था और यह भी जिक्र किया था कि इसकी सीडी ममता बनर्जी के पास है।
बता दें कि लखीमपुर खीरी में बिजली विभाग का एक लाइनमैन ट्रांसफर चाह रहा था, लेकिन उसके सामने जूनियर इंजीनियर (जेई) ने शर्मनाक शर्त रख दी। जेई ने कहा कि ट्रांसफर तभी होगा जब वह अपनी पत्नी को उसे सौंप देगा। इस शर्त ने लाइनमैन को इस कदर आहत किया कि उसने अपने ऊपर डीजल उड़ेलकर खुद को आग के हवाले कर दिया। परिवारवाले उसे लखीमपुर ले गए, जहां से उसे लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। रविवार को उसकी मौत हो गई। लेकिन मरने से पहले लाइनमैन ने जेई के खिलाफ बयान दिया है। लाइनमैन का आरोप है कि जेई और उसके दलाल ट्रांसफर के बदले में मेरी पत्नी मांग रहे हैं। मैंने थाने में भी नंबर देकर शिकायत किया था, पर कुछ हुआ नहीं। हालांकि डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने वीडियो का संज्ञान लेकर आरोपी जेई के निलंबन की सिफारिश की। साथ ही उसके खिलाफ विभागीय जांच शुरू करने के लिए निर्देश दिया। देर शाम अधीक्षण अभियंता राम शब्द ने आरोपी जेई नागेंद्र कुमार और टीजी-२ जगतपाल को सस्पेंड कर दिया है।
घर के पास चाह रहा था तैनाती
लखीमपुर में पलिया का रहने वाला गोकुल बिजली विभाग में लाइनमैन था। वह पलिया का रहने वाला है। लेकिन उसकी एक साल से तैनाती घर से ५० किमी दूर अलीगंज में थी। इससे पहले महंगापुर में तैनात था। वहां उसकी पहचान जेई से हुई थी। परिवार को लेकर गोकुल काफी दिनों से परेशान चल रहा था। इसलिए वह अपना ट्रांसफर पलिया चाह रहा था। उसने इसके लिए कई अफसरों से बात की, लेकिन उसकी मांग पूरी नहीं हुई। इसके बाद उसने अपने जेई से बात की। जेई ने ट्रांसफर करवाने की जिम्मेदारी ली। लेकिन उसके बदले में उसने जो मांगा वो गोकुल के लिए असहनीय था।

अन्य समाचार