मुख्यपृष्ठसमाचारInflation: धार्मिक उन्माद से महंगाई जैसे ज्वलंत मुद्दों को दरकिनार करने की...

Inflation: धार्मिक उन्माद से महंगाई जैसे ज्वलंत मुद्दों को दरकिनार करने की कोशिश में भाजपा – नाना पटोले

देश की आम जनता बेरोजगारी और महंगाई जैसे ज्वलंत मुद्दों से जूझ रही है, वहीं दूसरी ओर भाजपा ज्ञानवापी मस्जिद , हलाला, झटका और हिजाब जैसे मुद्दे उठाकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र की भाजपाई सरकार महंगाई और बेरोजगारी पर चुप क्यों रहती है? ऐसा तीखा सवाल महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एमपीसीसी) के अध्यक्ष नाना पटोले ने किया है। उन्होंने कहा है कि अगर केंद्र सरकार को महंगाई और बेरोजगारी जैसे मुद्दों को सुलझाने के लिए किसी भी तरह की मदद की जरूरत है तो कांग्रेस पार्टी एक जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभाते हुए हर तरह की मदद देने के लिए तैयार है।

उन्होंने आगे कहा कि अगर ज्ञानवापी मस्जिद, हिजाब, हलाला, जैसे मुद्दे से देश में बेरोजगारी, महंगाई, कानून-व्यवस्था की समस्या का समाधान हो जाए तो हम आपके साथ हैं लेकिन सच्चाई यह है कि इस तरह के विवादों से हमारे समाज में विभाजन हो रहा है। देश के निवेश पर नकारात्मक असर हो रहा है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पटोले ने कहा कि देश में महंगाई लगातार बढ़ रही है, थोक महंगाई अप्रैल में बढ़कर १५.८ फीसदी हो गई, जो पिछले दस साल में सबसे ज्यादा है। महंगाई में इजाफे का यह क्रम पिछले १३ महीने से जारी है। खाद्यान्न, दालें, गेहूं, खाद्य तेल, र्इंधन, गैस, सब्जियों के दाम अब आम आदमी की पहुंच से बाहर हो रहे हैं। बेरोजगारी ४५ साल के उच्चतम स्तर पर है। सरकारी नौकरियां घटती जा रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे की ७२ हजार नौकरियां खत्म हो गई हैं। ऐसे समय में जब देश मुश्किल दौर से गुजर रहा है, भाजपा द्वारा मंदिर-मस्जिद, हिजाब, हलाला जैसे मुद्दों को अहमियत दी जा रही है और ज्वलंत मुद्दों पर केंद्र की मोदी सरकार आंखें मूंदने का काम कर रही है। नाना पटोले ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार की इस भूमिका की वजह से देश की १३० करोड़ जनता को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ रही है।

अन्य समाचार