मुख्यपृष्ठनए समाचारदेश को गुलामी के दौर में ले जाना चाहती है भाजपा! ......

देश को गुलामी के दौर में ले जाना चाहती है भाजपा! … राहुल गांधी ने साधा मोदी सरकार पर निशाना

सामना संवाददाता / मुंबई
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सांसद राहुल गांधी ने कहा कि जब से केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार आई है, तब से मीडिया, चुनाव आयोग और अदालतें भी इससे बच नहीं पाई हैं। हर साल २ करोड़ नौकरियां देने का वादा किया गया था, लेकिन मोदी ने १० साल में कितने लोगों को रोजगार दिया? आज देश में ४० वर्षों में सबसे अधिक बेरोजगारी दर है। लाखों युवा नौकरियों के अभाव में अपनी ऊर्जा बर्बाद कर रहे हैं। किसान और नौजवान संकट में हैं, वहीं दूसरी ओर देश की सारी संपत्ति देश के दो-चार उद्योगपतियों को सौंपी जा रही है। सत्ता और प्रशासन में ओबीसी, दलित, पिछड़ों को बहुत कम हिस्सेदारी मिल रही है। इन सामाजिक तत्वों को सभी क्षेत्रों में कम स्थान दिया जाता है। कांग्रेस पार्टी द्वारा जातिवार जनगणना की मांग के बाद मोदी ने अपनी भाषा बदल ली है और कह रहे हैं कि देश में गरीब ही एकमात्र जाति है। देश के सभी सामाजिक तत्वों को साथ लेकर चलना है, यही कांग्रेस की विचारधारा है। अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो जातिवार जनगणना कराएगी और देश के युवाओं को रोजगार की जरूरत है, जो मोदी सरकार नहीं दे सकती, यह काम कांग्रेस पार्टी करेगी। उन्होंने विश्वास जताया कि उनकी मदद से हम महाराष्ट्र और देश में बदलाव लाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक सांसद, जो पहले कांग्रेस में थे, ने उनसे कहा था कि भाजपा में ‘गुलामी’ चलती है। नागपुर में ‘हैं तैयार हम’ रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘एक बीजेपी सांसद जो पहले कांग्रेस में थे, मुझसे निजी तौर पर मिले और मुझे बताया कि बीजेपी में ‘गुलामी’ काम करती है। उन्होंने मुझसे कहा कि उनका दिल अभी भी कांग्रेस के साथ है।’ उन्होंने कहा कि आप किसी से नहीं डरते… ये विचारधाराओं की लड़ाई है… हम सब मिलकर महाराष्ट्र और देश में चुनाव जीतने जा रहे हैं।
राहुल गांधी ने कहा कि लोग सोचते हैं कि आजादी की लड़ाई केवल अंग्रेजों के खिलाफ थी। नहीं, यह राजाओं और शासकों के खिलाफ भी थी। राजाओं की अंग्रेजों के साथ साझेदारी थी… कांग्रेस ने देश की जनता के लिए उस साझेदारी के खिलाफ लड़ाई लड़ी। आजादी से पहले भारत की जनता के लिए कोई अधिकार नहीं थे। ये आरएसएस की विचारधारा है, हमने इस विचारधारा को बदल दिया।

तानाशाही सत्ता को उखाड़ फेंकना है!
नाना पटोले ने किया आह्वान
प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज, राजर्षि शाहू महाराज, महात्मा फुले, डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की विचारधारा की भूमि पर कांग्रेस का स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। महात्मा गांधी ने नागपुर से तानाशाही सत्ता के खिलाफ नारे लगाए और पूरे देश से लोग एकजुट हुए और १५० साल के ब्रिटिश तानाशाही शासन का अंत किया। इंदिरा गांधी का राष्ट्रीय अध्यक्ष पद इसी नागपुर की धरती से तय हुआ था। यह बैठक भारत के मध्य भाग में हो रही है और मल्लिकार्जुन खड़गे और राहुल गांधी का संदेश देश तक पहुंचाने के लिए यह बैठक महत्वपूर्ण है। तानाशाही सत्ता को उखाड़ फेंकना है, मजदूरों, किसानों, युवाओं को न्याय देना है, लोकतंत्र और संविधान को बचाना है, यही संदेश इस बैठक में दिया गया। इंदिरा गांधी देश में हरित क्रांति, श्वेत क्रांति लार्इं और देश का विकास किया। उस समय इंदिरा गांधी ने नागपुर में एक सभा की और विदर्भ की जनता ने ११ की ११ लोकसभा सीटें जीत लीं और इंदिराजी प्रधानमंत्री बन गर्इं। आज इंदिराजी के पोते राहुल गांधी प्रेम का संदेश लेकर आए हैं, पटोले ने विदर्भ और महाराष्ट्र से भी इसी तरह उनका समर्थन करने की अपील की।

स्थिर सरकार देने के लिए ‘इंडिया एलायंस’ को जिताएं -अशोक चव्हाण
इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने आजादी से लेकर आज तक बलिदान दिया है, इस बलिदान को व्यर्थ न जाने दें। हालांकि, चार राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को अपेक्षित नतीजे नहीं मिले, लेकिन जनता का समर्थन बढ़ा है। आज देश के सामने बड़े संकट हैं भाजपा सरकार महंगाई, बेरोजगारी, किसानों की समस्या, महिला उत्पीड़न पर बात नहीं कर रही है। जनता के मुद्दों को किनारे रखकर सत्ता के अलग-अलग मुद्दों को कट्टरता के साथ आगे बढ़ा रही है। आज तक कई लोगों ने कांग्रेस को खत्म करने की कोशिश की है। याद रखें कि कांग्रेस खत्म नहीं हुई है, बल्कि वो लोग खत्म हो गए हैं। राज्य में समुदायों के बीच विवाद पैदा हो गए हैं। जातिवार जनगणना कराना और ५० फीसदी आरक्षण की सीमा हटाना कांग्रेस की भूमिका है, लेकिन भाजपा सरकार ऐसा नहीं कर रही है। देश का लोकतंत्र और डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर द्वारा दिए गए संविधान की रक्षा के लिए मिलकर काम करना होगा।’ देश और राज्य को एक मजबूत और स्थिर सरकार देने के लिए इंडिया गठबंधन को जिताएं।

लोकतंत्र का मजाक उड़ाने वाले मोदी और भाजपा को सबक सिखाएं -मल्लिकार्जुन खड़गे
इस समय देश में लोकतंत्र और संविधान खतरे में है। महंगाई और बेरोजगारी काफी बढ़ गई है। केंद्र में ३२ लाख सरकारी पद खाली होने के बावजूद मोदी सरकार नौकरियों में भर्ती नहीं करती, क्योंकि पिछड़े वर्ग को मौका मिलेगा। मोदी के पास दुनिया भर में घूमने का समय है, लेकिन जब संसद का सत्र चल रहा हो तो उनके पास संसद में आने का समय नहीं है। संसद में सवाल पूछने वाले विपक्षी दलों के १४६ सांसदों को निलंबित कर कानून पारित करना लोकतंत्र का मजाक है। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने मोदी और भाजपा को लोकतंत्र बचाने के लिए सबक सिखाने का आह्वान किया।

अन्य समाचार