मुख्यपृष्ठनए समाचारभाजपा बलात्कारियों के साथ! ...गुजरात में बिल्कीस बानो के रेपिस्टों की रिहाई...

भाजपा बलात्कारियों के साथ! …गुजरात में बिल्कीस बानो के रेपिस्टों की रिहाई पर कांग्रेस हुई आक्रामक

• केंद्रीय एजेंसी ने की थी मामले की जांच
• राज्य सरकार रिहाई का नहीं ले सकती निर्णय

सामना संवाददाता / मुंबई
कांग्रेस ने गुजरात के बिल्कीस बानो बलात्कार एवं हत्या के ११ दोषियों की रिहाई के पैâसले पर आक्रामक रुख अपनाया है। गुजरात में भाजपा की सरकार है। कांग्रेस ने सरकार के इस पैâसले पर हमला करते हुए कहा है कि भाजपा बलात्कारियों के साथ है।
बलात्कारियों की रिहाई मामले पर कांग्रेस के प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को बताना चाहिए कि क्या राज्य सरकार ने यह कदम उठाने के लिए केंद्र से अनुमति ली थी, जो अनिवार्य होती है? खेड़ा ने कानूनी प्रावधानों का उल्लेख करते हुए यह दावा भी किया कि ऐसे किसी भी मामले में राज्य सरकार अभियुक्तों की रिहाई या क्षमा का निर्णय नहीं ले सकती, जिसकी जांच केंद्रीय एजेंसी ने की हो। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘जिस नीति के पीछे छिपकर गुजरात सरकार कह रही है कि उसने इन ११ बलात्कारियों को रिहाई का आदेश दिया, १९९२ की वह नीति ८ मई, २०१३ को गुजरात सरकार द्वारा समाप्त कर दी गई थी। इसलिए ऐसे किसी भी मामले में राज्य सरकार अभियुक्तों की रिहाई या क्षमा का निर्णय नहीं ले सकती। इस प्रकरण की जांच भी सीबीआई ने की थी।’ खेड़ा के अनुसार, ‘सीआरपीसी की धारा ४३५ के तहत राज्य सरकार को केंद्र से अनुमति लेनी होती है।’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘हम गुजरात के सीएम से यह भी जानना चाहेंगे कि जेल सलाहकार समिति में कौन-कौन लोग हैं, जिन्होंने सर्वप्रथम इन अभियुक्तों की रिहाई और क्षमा करने की अनुशंसा की? हम मुख्यमंत्री से भी पूछना चाहेंगे कि क्या सुप्रीम कोर्ट के संज्ञान में यह बात लाई गई कि ८ मई, २०१३ को १९९२ की नीति को समाप्त कर दिया गया था?’
खेड़ा ने कहा, ‘एक सवाल मीडिया, समाज और विपक्षी दलों से है कि जिस निर्भया के प्रकरण में पूरा समाज एक आवाज में मांग कर रहा था कि बलात्कारियों को कठोर सजा दी जाए, आज मीडिया और विपक्षी दलों में वह चुप्पी क्यों है?’

अन्य समाचार