" />  2022 के विधानसभा चुनाव में डूबेगी भाजपा की नाव -अखिलेश यादव

 2022 के विधानसभा चुनाव में डूबेगी भाजपा की नाव -अखिलेश यादव

अयोध्या, प्रयागराज, वाराणसी, गोरखपुर, लखनऊ में भाजपा बुरी तरह हारी

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में हुए पंचायत चुनाव के नतीजों के बाद गांवों में ‘तीसरे इंजन’ की सरकार बनाने का भाजपा का सपना चकनाचूर हो गया है। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव परिणाम 2022 के आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा की नाव डूबने का स्पष्ट संकेत बताया है।

अखिलेश ने यहां एक बयान में कहा कि पंचायत चुनाव में सपा मतदाताओं की प्रथम वरीयता वाली पार्टी रही है और बड़ी तादाद में सपा की जीत के साफ संकेत हैं कि किसानों, नौजवानों और गांव तक में उसकी स्वीकार्यता बरकरार है। उन्होंने कहा कि जनता ने पार्टी को जीत दिलाकर लोकतंत्र को बचाने का भी सराहनीय कार्य किया है।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश के पंचायती चुनावों के नतीजों से जो संदेश मिल रहा है वह वर्ष 2022 में होनेवाले विधानसभा चुनावों के लिए भी दिशासूचक साबित होगा। यूपी में भाजपा राज का सफाया निश्चित है। पंचायत चुनावों के नतीजों ने भाजपा की नाव डूबने के स्पष्ट संकेत दे दिए हैं। भाजपा झूठे वादे करने के अपने स्वभाव के अनुसार पंचायत चुनावों में भी बाज नहीं आ रही है। यह हकीकत है कि गांवों में अपनी ही तीसरे इंजन वाली सरकार बनाने का उसका सपना बुरी तरह चकनाचूर हुआ है। उसे प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के गृह जनपदों में भी मुंह की खानी पड़ी है।

अखिलेश ने कहा, वाराणसी, गोरखपुर, प्रयागराज के अलावा आजमगढ़ से लेकर इटावा तक भाजपा की कोई चाल काम नहीं आई और तो और राज्य की राजधानी लखनऊ में भी जनता ने भाजपा को नकार दिया है। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायत चुनावों में सत्ता के दुरुपयोग और वोटों की हेराफेरी के बावजूद भाजपा को हार मिली है। उन्होंने कहा कि मंत्रियों, सांसदों, विधायकों तक को पूरे राज्य में तैनात कर भाजपा ने जीत की साजिशें रची थीं पर जनता उसकी धौंस में नहीं आई, उसने भाजपा को करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि भाजपा की नफरत और समाज को बांटने वाली रणनीति पश्चिम बंगाल के चुनावों में बुरी तरह पिटी है।