मुख्यपृष्ठनए समाचारचुनाव आयोग में भाजपा की सेंध! ... ईवीएम निर्माण कंपनी के ४...

चुनाव आयोग में भाजपा की सेंध! … ईवीएम निर्माण कंपनी के ४ निदेशक भाजपाई! …पूर्व केंद्रीय सचिव ने जताई आपत्ति

चुनाव आयोग को लिखा पत्र
सामना संवाददाता / मुंबई
ईवीएम मशीन को लेकर एक बार फिर चुनाव आयोग पर सवाल खड़े हो रहे हैं। कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पूछा है कि अगर ईवीएम बनाने वाली कंपनी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड में भाजपा के पदाधिकारी डायरेक्टर के रूप में काम कर रहे हैं तो ये सुरक्षित वैâसे है यह तो खुल्लमखुल्ला चोरी करने जैसी बात है। यह तो चुनाव आयोग में सेंध लगाने जैसा प्रकार है। इस मामले में पूर्व केंद्रीय सचिव ईएएस शर्मा ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर आपत्ति जताई है। मनी लाइफ डॉट इन की रिपोर्ट कहती है कि ईएएस शर्मा ने मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार और दो अन्य चुनाव आयुक्तों को लिखे पत्र में कहा है कि मैंने आपके ध्यान में लाया था कि वैâसे कम से कम चार ऐसे लोग जो भाजपा से जुड़े हैं को भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) के बोर्ड में `स्वतंत्र’ निदेशक के रूप में नामित किया गया है।
बता दें कि बीईएल इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के लिए सॉफ्टवेयर विकसित करने के अत्यधिक संवेदनशील काम में लगी हुई है। इसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि इसका तात्पर्य यह है कि एक राजनीतिक दल के रूप में भाजपा की बीईएल के मामलों को चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका है। जिससे यह अपरिहार्य निष्कर्ष निकलता है कि भाजपा बीईएल के कामकाज की निगरानी करती रहती है। शर्मा का कहना है कि मेरे द्वारा कुछ समय पहले इस परेशान करने वाले तथ्य को भारतीय चुनाव आयोग के ध्यान में लाने के बावजूद, मुझे लगता है कि आयोग ने जानबूझकर कार्रवाई नहीं करने का पैâसला किया है। इससे पता चलता है कि आयोग चुनावों में सत्तारूढ़ भाजपा के पक्ष में चुनावी मैदान को खुलेआम झुकाए जाने को लेकर चिंतित नहीं है। उन्होंने सवाल उठाया है कि क्या आयोग को भाजपा के एक महत्वपूर्ण पदाधिकारी को बीईएल के बोर्ड में `स्वतंत्र’ निदेशक के रूप में नामित किया जाना बेहद आपत्तिजनक नहीं लगता है? कंपनी अधिनियम कहता है कि एक स्वतंत्र निदेशक को कंपनी के मामलों के प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी चाहिए।
बता दें कि रणदीप सिंह सुरजेवाला ने एक न्यूज रिपोर्ट का हवाला देते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स (X) पर लिखा, `अगर ईवीएम बनाने वाली कंपनी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड में निदेशक के रूप में भाजपा के पदाधिकारी और नामांकित व्यक्ति हैं तो क्या ईवीएम सुरक्षित हैं? क्या स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव हो सकते हैं? चुनाव की पवित्रता की रक्षा कौन करेगा?’

कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला का आरोप
सुरजेवाला ने जिस रिपोर्ट का हवाला दिया है, उसके मुताबिक, भारत सरकार के पूर्व सचिव ईएएस सरमा ने चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने भाजपा नेता को ईवीएम बनाने वाली कंपनी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड के डायरेक्टर पद पर होने का सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को इस पर स्पष्टीकरण देना चाहिए, साथ ही ऐसे लोगों का पद रद्द करने का निर्देश देने की मांग की है। सरमा ने कहा कि (बीईएल) द्वारा लिए गए एक्शन का विवरण सार्वजनिक डोमेन में रखना चाहिए।

अन्य समाचार