मुख्यपृष्ठसमाचारप्रतापगढ़ में कसौटी पर है भाजपा का 'प्रताप'!... राजा के प्रताप ने साधा...

प्रतापगढ़ में कसौटी पर है भाजपा का ‘प्रताप’!… राजा के प्रताप ने साधा निशाना, बढ़ी भाजपा की ‘धुकधुकी’

• एमएलसी चुनाव में हो रही त्रिकोणात्मक लड़ाई
• यूपी की ३६ विधानपरिषद सीटों पर फिर रोचक जंग
• अधिकांश सीटों पर भाजपा-सपा आमने-सामने
विक्रम सिंह / सुल्तानपुर। यूपी में विधानसभा चुनाव निपटते ही अब विधानपरिषद की ३६ सीटों पर रोमांचक जंग शुरू हो चुकी है। पर्चा दाखिला होने के बाद वोटरों को रिझाने के लिए उम्मीदवारों ने चुनाव प्रचार जोर शोर से शुरू कर दिया है। सबसे रोचक लड़ाई है प्रतापगढ़ की। यहां लगभग ढाई दशक से एमएलसी सीट पर बेंती के राजा रघुराज प्रताप सिंह (के खास) का कब्जा चला आ रहा है। इस बार भी सपा-भाजपा ने अपने प्रत्याशी उतारे तो हैं लेकिन दोनों की सीधी लड़ाई राजा की पार्टी जनसत्ता के उम्मीदवार सिटिंग एमएलसी कुंवर अक्षय प्रताप सिंह से ही है। वहीं भाजपा ने भी इस बार एक और ‘प्रताप’ यानी वजनदार प्रत्याशी पूर्व विधायक हरि प्रताप सिंह को उतार दिया है। जबकि सपा विजय बहादुर यादव को उतार दो प्रतापों (अक्षय प्रताप व हरि प्रताप) के बीच सीधी जंग को त्रिकोणात्मक बनाने की मशक्कत में है। देखना है उसे कितनी कामयाबी मिलती है !
प्रतापगढ़ की राजनीति में यूं तो हमेशा प्रमुख राजनीतिक दलों की मौजूदगी रही है लेकिन एक ‘एंगल’ सदैव रघुराज प्रताप सिंह ‘राजा भइय्या’ का मौजूद रहता आया है। सारी सियासी लड़ाइयां हमेशा इसी कोण पर आकर टिक जाती रही हैं। अतीत पर नजर डालें तो १९९८ से ही प्रतापगढ़ एमएलसी के पद पर रघुराज प्रताप सिंह के करीबी का कब्जा रहा है। पड़ोसी अमेठी जिले की छोटी सी रियासत रही जामो के उत्तराधिकारी रहे कुंवर अक्षय प्रताप राजा भइय्या के खासमखास हैं। वे १९९८ में पहली बार एमएलसी निर्वाचित हुए थे। वर्ष २००४ में फिर अक्षय प्रताप सिंह को ही जीत मिली थी। हालांकि लोकसभा सांसद निर्वाचित होने के बाद उन्होंने एमएलसी पद से इस्तीफा दे दिया था। जिस कारण उपचुनाव हुआ। उसमें भी राजा भइय्या खेमे के ही ‘बब्बू राजा’ के नाम से मशहूर आनंद भूषण सिंह  निर्विरोध एमएलसी चुन लिये गए। फिर तो वर्ष २०१० व २०१६ में अक्षय प्रताप सिंह पुनः लगातार चुने लिए गए।
मैदान में हैं इस बार छह प्रत्याशी
इस बार एमएलसी चुनाव में अक्षय प्रताप सिंह जनसत्ता दल लोकतांत्रिक से चुनाव लड़ रहे हैं। जबकि सपा से विजय बहादुर यादव व भाजपा से पूर्व विधायक हरि प्रताप सिंह हैं। इसके अलावा अक्षय प्रताप सिंह की पत्नी रानी मधुरिमा सिंह, जिला सहकारी बैंक के पूर्व अध्यक्ष डा. केएन ओझा, राजेंद्र मौर्य निर्दल प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में हैं।

2815 मतदाता करेंगे वोटिंग

विधान परिषद सदस्य (स्थानीय प्राधिकारी क्षेत्र) के चुनाव में इस बार प्रतापगढ़ के 2815 मतदाता मतदान करेंगे।  वे अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। सबसे अधिक मानधाता कुंडा ब्लाक व सबसे कम मतदाता गौरा में 134 मतदाता हैं। मतदान के लिए 17 ब्लाक मुख्यालयों के अलावा जिला पंचायत कार्यालय को बूथ बनाया गया है। नौ अप्रैल को सुबह आठ बजे से शाम चार बजे तक मतदान होगा। जबकि 12 अप्रैल को सुबह आठ बजे से मतगणना होगी।

अन्य समाचार