मुख्यपृष्ठनए समाचारभाजपा की वाशिंग मशीन: दाग अच्छे हैं! दागी समेत १८ मंत्री बनाए...

भाजपा की वाशिंग मशीन: दाग अच्छे हैं! दागी समेत १८ मंत्री बनाए गए

  • ‘ईडी’ की कृपा से दागी मंत्रियों की शपथ विधि
  • दागियों समेत १८ मंत्री बनाए गए
  • आधे दर्जन मंत्री पर वसूली, अपरहण और धोखाधड़ी के मामले हैं दर्ज

सामना संवाददाता / मुंबई

महाराष्ट्र में बगावत कर सत्ता में आई ‘ईडी’ सरकार का बहुचर्चित विस्तार अंतत: कल पूरा हुआ। राजभवन में हुए समारोह में राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी ने ‘ईडी’ की कृपा से दागी सहित १८ मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। सबसे खास बात ये है कि ‘ईडी’ सरकार के पहले विस्तार में एक भी महिला को मौका नहीं दिया गया। इसके विपरित भाजपा द्वारा किए गए महिला शोषण के आरोपों के चलते इस्तीफा देनेवाले संजय राठौड़ के गले में फिर से मंत्री पद की माला डाली गई है। कल-परसों ही टीईटी घोटाले में फंसे पूर्व राज्यमंत्री अब्दुल सत्तार को भी सीधे कैबिनेट  मंत्री पद पर बढ़ोत्तरी देते हुए ‘भाजपा की वॉशिंग मशीन में जाने पर सभी कैसे  स्वच्छ होते हैं’ उसकी अनुभूति कराई।
राज्यपाल के साथ मिलकर राज्य में अवैध तरीके से सत्ता स्थापित करनेवाली शिंदे-फडणवीस सरकार के विस्तार का झूला आखिरकार हिल गया। ९ अगस्त को अगस्त क्रांति दिवस के मुहूर्त पर दोनों तरफ के कुल १८ लोगों ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली। ‘ईडी’ सरकार के मंत्रिमंडल में शामिल हुए करीब आधा दर्जन मंत्रियों पर हफ्ताउगाही, अपहरण, जालसाजी जैसे फौजदारी स्वरूप के गंभीर मामले दर्ज हैं। इस पर शिंदे-फडणवीस का यही स्वच्छता और पारदर्शक कार्यभार है क्या, ऐसा सवाल विरोधियों की तरफ से पूछा जा रहा है। इस पर विरोधी पक्ष नेता अजीत पवार ने नाराजगी व्यक्त की है। इसके साथ ही भाजपा नेता चित्रा वाघ ने राठौड को मंत्री पद देना दुर्भाग्यपूर्ण है, ऐसा कहते हुए अपनी ही पार्टी की खिंचाई की है।
महाविकास आघाड़ी के खिलाफ बगावत कर सत्ता में आए शिंदे गुट का हर विधायक ऐसा दावा कर रहा है कि हम शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे के विचारों पर चल रहे हैं। मंत्री पद की शपथ लेते समय शिवसेना के एक भी बागी विधायक ने हिंदूहृदयसम्राट शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे का नाम तक नहीं लिया। यह चर्चा थी कि भाजपा की तरफ से कोकण से नितेश राणे को मंत्रिमंडल में मौका मिलेगा। लेकिन नितेश को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया। इससे क्षुब्ध राणे पिता-पुत्र शपथविधि में नदारद रहे। इसी तरह मुंबई के भाजपा नेता आशीष शेलार भी मंत्री पद के दावेदार माने जा रहे थे, लेकिन वे भी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हो सके।

अन्य समाचार