मुख्यपृष्ठखबरेंकाले मेघा, काले मेघा पानी तो बरसाओ...महाराष्ट्र में सुस्त पड़ा मानसून! बारिश की...

काले मेघा, काले मेघा पानी तो बरसाओ…महाराष्ट्र में सुस्त पड़ा मानसून! बारिश की नहीं बन रही अनुकूल परिस्थिति

सामना संवाददाता / मुंबई
जुलाई महीने में मेघराज मुंबई समेत पूरे महाराष्ट्र में जमकर बरसे। इतना बरसे कि आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया था। हालांकि, अब महाराष्ट्र में मानसून सुस्त पड़ गया है, बताया जा रहा है कि बारिश के लिए अनुकूल परिस्थिति नहीं बन रही है। ऐसा लग रहा है कि मेघराज रूठ गए हैं। ऐसे में मुंबई और महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में हाल फिलहाल मेघराज के बरसने के आसार कम ही नजर आ रहे हैं। हालांकि मौसम विभाग ने यह भी संभावना जताई है कि १९ अगस्त के बाद से बारिश की तीव्रता एक बार फिर से बढ़ेगी।
मौसम विभाग ने दिया अपडेट
मौसम विभाग के ताजा पूर्वानुमान के मुताबिक, १९ से २४ अगस्त तक महाराष्ट्र के विदर्भ और उससे सटे मराठवाड़ा जिलों में कुछ स्थानों पर तेज बारिश होने की संभावना है। वहीं २५ से ३१ अगस्त के बीच विदर्भ, कोकण, मध्य प्रदेश, ओडिशा, छत्तीसगढ़ में बारिश की बौछारें देखने को मिलेंगी। इसके अलावा मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा में औसत या भारी बारिश की संभावना कम है।
कब लौटेगी बारिश?
महाराष्ट्र में जुलाई में अच्छी बारिश हुई थी। विदर्भ और कोकण में तो मूसलाधार बारिश हुई। लेकिन अगस्त की शुरुआत से ही बारिश गायब हो गई है। आईएमडी के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक के.एस. होसलीकर ने बताया कि मानसूनी बारिश का यह ब्रेक २० अगस्त तक रहेगा। आईएमडी ने २० अगस्त के बाद राज्य में बारिश की वापसी की संभावना जताई है।
चार सप्ताह का पूर्वानुमान
मौसम विभाग ने अगले चार सप्ताह के मॉनसून का पूर्वानुमान जारी किया है। इसके मुताबिक, देशभर में पहले दो हफ्तों तक कई जगहों पर सामान्य से कम बारिश होगी, जबकि तीसरे और चौथे सप्ताह में सामान्य बारिश होने की उम्मीद है। यह पूर्वानुमान १२ अगस्त से ८ सितंबर तक के लिए है।

अन्य समाचार