मुख्यपृष्ठसमाचारजवानी में ही सूख रहीं हड्डियां! कोरोना विजेताओं में साइड इफेक्ट

जवानी में ही सूख रहीं हड्डियां! कोरोना विजेताओं में साइड इफेक्ट

सामना संवाददाता / गोरखपुर
कोरोना से जंग जीतने वालों को अब इलाज के साइड इफेक्ट कमजोर बना रहे हैं। संक्रमण की पहली और दूसरी लहर में आईसीयू में भर्ती मरीजों की कमर में दर्द बढ़ गया है। उनके कमर की हड्डियां सूख रही हैं। कुछ लोगों के कूल्हे  बदलने तक की नौबत आ गई है। इस बीमारी को एवैस्कुलर नेक्रोसिस (एवीएन) कहते हैं। बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इसके मरीजों की संख्या दोगुनी से अधिक हो गई हैं। देशभर में एवीएन के मरीजों की संख्या में कई गुने का इजाफा हुआ है।
बता दें कि कोरोना के संक्रमण के दौरान मरीजों के इलाज में स्टेरॉयड का इस्तेमाल बढ़ गया था। संक्रमितों के इलाज में गांव के झोलाछाप डॉक्टर स्टेरॉयड का प्रयोग बेतहाशा कर रहे थे। इसके सेवन से शरीर में हार्माेन का स्राव तेजी से होने लगता है। यह शरीर में रिकवरी की स्वाभाविक प्रक्रिया की गति को कई गुना तेज कर देता है। अत्यधिक सेवन से शरीर में रक्त प्रवाह करने वाली नसें सूखने लगती हैं। बीआरडी मेडिकल कॉलेज के हड्डी रोग विभाग के प्रो. अमित मिश्रा ने बताया कि कोरोना महामारी के दौरान मध्यम और गंभीर दर्जे के संक्रमित रहे ८० फीसदी लोगों ने जाने-अनजाने में स्टेरॉयड का सेवन किया। इसका नतीजा अब दिख रहा है। शरीर में हड्डियों को खून पहुंचाने वाली नसें स्टेरॉयड से क्षतिग्रस्त हो गई हैं। इसके कारण हड्डियां कमजोर हो रही हैं। कमर की हड्डियों को खून पहुंचाने वाली नसों पर इसका असर सबसे ज्यादा हुआ है। इसी वजह से कोरोना विजेता कमर दर्द को लेकर परेशान हो रहे हैं। जांच में उनकी कमर की हड्डियां कमजोर मिली है।
ब्लैक फंगस  के मिल रहे हैं मरीज
डॉ. अमित ने बताया कि स्टेरॉयड के दुष्परिणाम का असर यह रहा कि दूसरी लहर के बाद ३०० से अधिक मरीज ब्लैक फंगस  का शिकार हो गए। इनमें से १५० से अधिक मरीजों का बीआरडी में ऑपरेशन कर उनके मांस निकालने पड़े। इन मरीजों का अभी भी इलाज चल रहा है।

अन्य समाचार