मुख्यपृष्ठनए समाचारसंकट में सांसें! संभलकर रहें, बिना सिगरेट पीने वाले भी आ रहे...

संकट में सांसें! संभलकर रहें, बिना सिगरेट पीने वाले भी आ रहे लंग्स कैंसर के लपेटे में

सामना संवाददाता / मुंबई

आजकल प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है, यही वजह है कि सभी की सांसें अब संकट में आ गई हैं। क्योंकि बढ़ते प्रदूषण का सीधा असर लोगों के फेफड़ों पर पड़ रहा है और तेजी से लोग लंग्स कैंसर की चपेट में आ रहे हैं। हेल्थ एक्सपट्र्स के मुताबिक, वातावरण में प्रदूषक इस कदर फैला है कि जो लोग सिगरेट नहीं भी पी रहे हैं, उन्हें भी लंग्स कैंसर हो रहा है।

हेल्थ एक्सपट्र्स के मुताबिक, कई मरीज जिन्हें पहले से ही सांस की समस्या थी और इलाज के बाद उनकी स्थिति सामान्य हुई, उनकी भी हालत पिछले कई दिनों में पहले से ज्यादा खराब हो गई है। ऐसे मरीजों को इनहेलर का सहारा लेना पड़ रहा है। कुछ मरीजों में अस्थमा के लक्षण भी नजर आ रहे हैं। डॉक्टर के अनुसार, अस्पताल में आ रहे सांस के मरीजों में कुछ ऐसे भी मरीज हैं, जिनमें इंफेक्शन काफी लंबे समय तक रह रहा है। हमारे देश में नवंबर के मरीने से सर्दी का असर बढ़ने लगता है, जिसकी वजह से बीमारियां बढ़ने लगती हैं। इस समय कुछ केस में ऐसा भी देखने को मिला है, जब लोग काफी दिनों बाद ही ठीक हो रहे हैं। इससे बचने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी सावधानी बरतना है। हेल्थ एक्सपट्र्स के मुताबिक, वुहान की स्थिति पर इस वक्त सबसे ज्यादा नजर रखी जा रही है। वहां सांस की समस्या के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। चीन से मिली जानकारी के मुताबिक, ये कोई नया नोबल वायरस नहीं है। एक्सपट्र्स ने बताया कि पहले बच्चे और फिर बड़ी उम्र के लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। ऐसे में चीन पर नजर रखने की जरूरत है। इसका आंकलन हेल्थ एक्सपट्र्स कर रहे हैं।

अन्य समाचार