मुख्यपृष्ठसमाचारकाली कमाई का नहीं है कोई छोर... फरीदाबाद में रिश्वतखोर!

काली कमाई का नहीं है कोई छोर… फरीदाबाद में रिश्वतखोर!

• फरवरी में विजिलेंस ने ११ सरकारी कर्मचारी को रंगे हाथ पकड़ा
सामना संवाददाता / चंडीगढ़। हरियाणा विजिलेंस ब्यूरो ने फरवरी २०२२ में ४ राजपत्रित अधिकारियों, ७ अराजपत्रित अधिकारियों और ७ निजी व्यक्तियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज करने की सिफारिश की है। इसके अतिरिक्त दो अन्य जांच में २ राजपत्रित अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की भी सिफारिश की गई है। विभाग ने जिन ११ सरकारी कर्मचारियों को पकड़ा है, उसमें से सबसे ज्यादा पांच फरीदाबाद के हैं। विजिलेंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि इसी अवधि के दौरान एक राजपत्रित अधिकारी सहित १० सरकारी कर्मियों को १००० रुपए से १.४० लाख रुपए तक की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। शिकायत के आधार पर ब्यूरो ने दो अन्य सरकारी कर्मियों पर भी भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया। फरवरी में की गई गिरफ्तारियों में नगर निगम, फरीदाबाद में तैनात अधीक्षण अभियंता रवि शर्मा और लेखाकार रविशंकर दोनों को १.४० लाख रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा, जबकि खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग, फरीदाबाद में वजन एवं माप अनुभाग में तैनात राजबीर सिंह निरीक्षक को ६०,००० रुपए रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया।
जिला केंद्रीय सहकारी बैंक पलवल के शाखा प्रबंधक उजेंद्र सिंह को २५,००० रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया। फरीदाबाद जिले में तैनात डीएचबीवीएन के लाइनमैन मान सिंह को २६,००० रुपए की रिश्वत लेते और हरियाणा रोडवेज, जींद के नाजर क्लर्क भगवान को १० हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया गया।

अन्य समाचार