मुख्यपृष्ठनए समाचारऐसी तकनीक लाएं कि ढक्कन खुलने पर अधिकारी अलर्ट हो जाएं! ......

ऐसी तकनीक लाएं कि ढक्कन खुलने पर अधिकारी अलर्ट हो जाएं! … मैनहोल को लेकर हाईकोर्ट ने बीएमसी को दिया सुझाव

सामना संवाददाता / मुंबई
महानगर मुंबई में खुले मैनहोल की समस्या को लेकर हाईकोर्ट में एक सुनवाई के दौरान कोर्ट ने मनपा को आधुनिक तकनीकी उपयोग करने का सुझाव दिया है। कोर्ट ने कहा कि मनपा को आधुनिक विज्ञान और प्रौद्योगिकी की मदद से कुछ ऐसा तंत्र तैयार करना चाहिए, जिससे मैनहोल का ढक्कन हटते ही संबंधित अधिकारी अलर्ट हो जाएं और वहां होने वाली अप्रिय घटना को टाला जा सके।
हाईकोर्ट में मुख्य न्यायाधीश दीपंकर दत्ता व जस्टिस अभय आहूजा की पीठ ने कहा कि मुंबई में खुले ड्रेनेज मैनहोल्स की समस्या से लोग चिंतित हैं। इस समस्या का स्थाई समाधान निकालें। हाईकोर्ट ने पूरे महाराष्ट्र में गड्ढों की बढ़ती संख्या और खुले मैनहोल पर चिंता जताने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह बात कही। कोर्ट ने मनपा से कहा कि उसे कुछ प्रगतिशील तरीके से सोचना चाहिए। खुले मैनहोल्स की समस्या से निपटने का कोई मानक तरीका खोजा जाना चाहिए। मनपा बताए कि क्या तरीका हो सकता है? हम इसका स्थाई हल चाहते हैं। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई १९ दिसंबर को तय की।
कोर्ट में मनपा के वकील अनिल सखारे ने बताया कि मनपा खुले मैनहोल की समस्या से युद्धस्तर पर निपट रही है। सभी खुले मैनहोल को ढकने का काम चल रहा है। इसके बाद पीठ ने मनपा के इन प्रयासों की सराहना की और कहा कि मैनहोल में यदि कोई गिरता है या कोई अप्रिय घटना होती है तो इसके लिए मनपा को जिम्मेदार माना जाता है। इसको ध्यान में रखते हुए मैनहोल को ढकने के प्रयास में मनपा को कोई कसर नहीं छोड़ना चाहिए।

अन्य समाचार