मुख्यपृष्ठसमाचारसुबह बसपा, दोपहर में कांग्रेस, शाम को थामा भाजपा का दामन! सुंदरलाल...

सुबह बसपा, दोपहर में कांग्रेस, शाम को थामा भाजपा का दामन! सुंदरलाल का सियासी सफर एक दिन में बदली तीन पार्टियां!

सामना संवाददाता / दमोह
राजनीतिक महत्वाकांक्षा में लोगों की नैतिकता का हनन होता जा रहा है। सत्ता की लोलुपता में लोग किसी भी स्तर तक जाने को तैयार हैं। इसका ताजा उदाहरण मध्य प्रदेश के दमोह में देखने को मिला। दमोह जिले के नगरीय निकाय चुनाव में नैतिकता के पतन की बड़ी उठापटक देखने को मिली। पथरिया नगर परिषद में बसपा से नव-निर्वाचित पार्षद सुंदरलाल विश्वकर्मा ने ५ अगस्त को कांग्रेस की सदस्यता लेकर नगर परिषद अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ा और १५ पार्षदों में से ८ मत लेकर विजयी हुए। हैरान करने वाली बात यह है कि जीत के बाद उन्होंने भाजपा की सदस्यता ले डाली। इस तरह से बसपा के सदस्य ने चंद घंटों में तीन पार्टियां बदल डाली और अध्यक्ष बन कर सभी को हैरान कर दिया। सुंदरलाल के इस सियासी सफर की लोग चटखारे लेकर चर्चा कर रहे हैं।
इस मामले पर पथरिया विधायक ने कहा कि सुंदरलाल की इस हरकत से पथरिया के लोग निराश और हैरान हैं। बता दें कि इस मामले में चौंकान वाली बात ये भी है कि यही सुंदरलाल का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वे गंगा की सौगंध ले रहे हैं कि अध्यक्ष के लिए बीएसपी उम्मीदवार और उपाध्यक्ष पद के लिए भाजपा उम्मीदवार को वोट देंगे। ये वीडियो ऋषिकेश का बताया जा रहा था। गौरतलब है कि ५ अगस्त को पथरिया नगर परिषद में होने वाले अध्यक्ष-उपाध्यक्ष के चुनाव में बदले समीकरणों ने सभी को चौंका दिया। राजनीति के इतिहास में पहली बार ऐसा घटनाक्रम सामने आया।
भाजपा थी भयभीत
बता दें कि नगर पंचायत पथरिया में भाजपा को जीत की उम्मीद नहीं थी और वहा भयभीत थी क्योंकि यहां उसके पास केवल ४ पार्षद थे. यहां उसे बहुमत के लिए ४ और पार्षद चाहिए थे। १५ में से सबसे ज्यादा ७ पार्षद कांग्रेस के पास थे। माना जा रहा था कि लक्ष्मण ठाकुर अध्यक्ष बन जाएंगे लेकिन तभी एक नाटकीय घटनाक्रम ने सबकुछ बदल दिया। बीएसपी के सुंदरलाल विश्वकर्मा ने लक्ष्मण सिंह से बात की और कांग्रेस में चले गए। उनके कांग्रेस में जाते ही उन्हें अध्यक्ष बनाने की घोषणा भी कर दी गई। कमाल की बात है कि वे चुनाव जीत भी गए।
अचानक बदल गई सत्ता
जीतने के बाद एक ओर कांग्रेस ने जश्न मनाना शुरू किया, तो दूसरी ओर पता चला कि सुंदर लाल ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है और वे भाजपा में चले गए हैं। कांग्रेस से नगर पंचायत अध्यक्ष निर्वाचित होने के बाद सुंदर लाल विश्वकर्मा की मंत्री गोविंद सिंह और मंत्री भूपेंद्र सिंह से चर्चा हुई और वह भाजपा में शामिल हो गए। इस मामले पर पथरिया से बीएसपी विधायक रामबाई ने कहा कि कांग्रेस के सुंदर लाल विश्वकर्मा को अध्यक्ष बनाने की खबर से लोगों में निराशा फैल  गई। हमारी पार्टी में सुंदर सिर्फ पार्षद थे, लेकिन कांग्रेस ने उन्हें अध्यक्ष बनाकर जनता के साथ धोखा किया है और उनके अध्यक्ष बनने पर कोई खुश नहीं है।

अन्य समाचार