मुख्यपृष्ठसमाज-संस्कृतिबुलाकी शर्मा को दिया जाएगा 'मनुज साहित्य सम्मान', 2023

बुलाकी शर्मा को दिया जाएगा ‘मनुज साहित्य सम्मान’, 2023

सामना संवाददाता / बीकानेर
डॉ. ओ. पी. शर्मा चैरिटेबल ट्रस्ट, चूरू की ओर से 2023 का ‘मनुज साहित्य सम्मान’ बीकानेर के साहित्यकार बुलाकी शर्मा को दिया जाएगा। ट्रस्ट के सचिव राजेंद्र शर्मा ‘मुसाफिर’ ने बताया कि चूरू में आयोजित गरिमामय समारोह में उन्हें ट्रस्ट की ओर से ग्यारह हजार रुपए, शॉल, अभिनंदन पत्र एवं स्मृति-चिह्न देकर सम्मानित किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि बुलाकी शर्मा राजस्थानी और हिंदी में विगत चार दशकों से कहानी, व्यंग्य, नाटक, बाल साहित्य आदि गद्य की अनेक विधाओं में सृजनरत हैं। विशेष रूप से व्यंग्यकार के रूप में राष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त बुलाकी शर्मा की 30 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। चेखव की बन्दूक, टिकाऊ सीढ़ियां उठाऊ सीढ़ियां, पांचवां कबीर, आप तो बस आप ही हैं, कवि, कविता अर घरआली, इज्जत में इजाफो, आपां महान, तैरूडै में किताब आदि उनकी कुछ चर्चित पुस्तकें हैं। दैनिक भास्कर, दैनिक युगपक्ष, साप्ताहिक विनायक आदि अनेक समाचार पत्रों के स्तंभ लेखक रहे बुलाकी शर्मा का मुंबई, महाराष्ट्र के लोकप्रिय हिंदी दैनिक ‘दोपहर का सामना’ में प्रति मंगलवार को राजस्थानी व्यंग्य स्तंभ ‘रौबीलो राजस्थान’ का नियमित प्रकाशन हो रहा है। बुलाकी शर्मा को साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली का मुख्य पुरस्कार, राजस्थान साहित्य अकादमी, उदयपुर का कन्हैयालाल सहल पुरस्कार, राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी, बीकानेर का शिवचन्द्र भरतिया गद्य पुरस्कार, राज्य स्तरीय शंभु शेखर सक्सेना विशिष्ट साहित्यकार सम्मान सहित अनेक सम्मान-पुरस्कार मिल चुके हैं तथा वर्तमान में वे पंडित जवाहरलाल नेहरू बाल साहित्य अकादमी, राजस्थान के उपाध्यक्ष हैं।
सचिव राजेंद्र शर्मा ने बताया कि प्रतिवर्ष होने वाला ‘मनुज साहित्य सम्मान’ समारोह रविवार, 10 सितम्बर, 2023 को पूर्वाह्न 3 बजे स्थानीय लोक संस्कृति शोध संस्थान नगर- श्री के प्रांगण में सम्पन्न होगा। इससे पूर्व ‘मनुज साहित्य सम्मान’ जयपुर के नन्द भारद्वाज, डॉ. श्रीगोपाल काबरा, चिड़ावा के श्याम जांगिड़, चूरू के प्रदीप शर्मा, भंवरसिंह सामौर, डॉ. सुरेन्द्र सोनी और श्रीडूंगरगढ़ के श्याम महर्षि, जोधपुर के डॉ. आईदान सिंह भाटी तथा बीकानेर के डॉ. नीरज दइया को दिया जा चुका है।

अन्य समाचार