मुख्यपृष्ठनए समाचारबुल्डोजर राज में भी कांवड़ियों पर गाज : सावन का कोई भी...

बुल्डोजर राज में भी कांवड़ियों पर गाज : सावन का कोई भी सोमवार नहीं बीता सकुशल! … अधिकमास में अधिक हुई पत्थरबाजी

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ
अधिकमास से लेकर श्रावण मास तक शायद ही कोई सोमवार ऐसा रहा हो, जब पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसी न किसी जिले में शिव भक्त कांवड़ियों का जलाभिषेक निष्कंटक संपन्न हो गया हो। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की हनक घटी है या बुल्डोजर का भय समाप्त हो गया, जो बार-बार ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति हो रही है। ताजा मामला बदायूं जिले का है। जहां रविवार रात लालपुल पुलिस चौकी के सामने से गुजर रहे कांवड़ियों के जत्थे पर दूसरे समुदाय के कुछ असामाजिक तत्वों ने पथराव कर दिया। इससे गुस्साए कांवड़ियों ने हंगामा शुरू कर दिया और वहीं सड़क पर बैठ गए। कांवड़िए उपद्रवियों को गिरफ्तार करने की मांग करने लगे। उन्होंने सड़क की एक साइड पर जाम लगा दिया। सूचना पर सीओ सिटी, कोतवाली और सिविल लाइंस इंस्पेक्टर पहुंच गए। वह देर रात कांवड़ियों को समझाने में लगे रहे, लेकिन रात दस बजे तक जाम नहीं खुल सका।
मिली जानकारी के अनुसार, सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के गांव मझिया निवासी कांवड़ियों का जत्था कछला से जल भरकर लौट रहा था। इस जत्थे में तमाम युवाओं के अलावा कई महिलाएं, लड़कियां और बच्चे शामिल थे। ट्रैक्टर-ट्रॉली पर डीजे रखा हुआ था। सभी कांवड़िया नाचते-झूमते आ रहे थे। जैसे ही उनका जत्था शहर में लालपुल पुलिस चौकी के सामने पहुंचा, तभी गली से निकलकर आए दूसरे समुदाय के पांच-छह युवकों ने कांवड़ियों पर पथराव कर दिया, जिसमें १५ साल का कांवड़िया चेतन घायल हो गया। यह देखकर कांवड़ियों ने हंगामा कर दिया। चौकी पर मौजूद पुलिस कर्मी दौड़ पड़े। उन्होंने दौड़ाकर एक युवक को पकड़ लिया, जबकि अन्य हमलावर मौके से भाग गए।
सूचना पर सीओ सिटी आलोक मिश्र, कोतवाली इंस्पेक्टर बिजेंद्र सिंह और सिविल लाइंस इंस्पेक्टर गौरव बिश्नोई पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। वे सभी कांवड़ियों को समझाने में लगे रहे। कांवड़िए इस बात पर अड़े हैं कि आरोपियों को पकड़कर उनके सामने लाया जाए। बाद में उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। देर रात तक मौके पर जाम लगा रहा। सीओ सिटी आलोक मिश्र ने बताया कि कांवड़िया कुछ लोगों पर पत्थर मारने का आरोप लगा रहे हैं।

अन्य समाचार