मुख्यपृष्ठसमाचारभाजपा सरकार की दादागीरी... हिंदू घर बेचने को मजबूर

भाजपा सरकार की दादागीरी… हिंदू घर बेचने को मजबूर

-खफा लोगों ने दीवारों पर लगाए पोस्टर

सामना संवाददाता / भोपाल 

मध्य प्रदेश की मोहन यादव सरकार आने के बाद लोगों को लगा था कि हिंदू सुरक्षित है, प्रदेश में रामराज आएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। रामराज के दावा करने वाली भाजपा की सरकार होने के बावजूद प्रदेश के लोग परेशान हैं, सरकार की ओर से की जा रही दादागीरी से लोग अभी से तंग आने लगे हैं। मध्य प्रदेश के देवास में तो लोग प्रशासन की दबंगई से नाराज होकर क्षेत्र का हिंदू समाज अपना मकान बेचने को मजबूर हैं। दरअसल, देवास के गजरा गियर चौराहे से कब्रिस्तान के रास्ते को लेकर वहां के लोग और प्रशासन आमने-सामने आ गए हैं। लोगों की मांग को प्रशासन ने नकार दिया है, जिसके चलते परेशान होकर लोगों ने अपने घरों के बहार प्रशासन का विरोध करते हुए पोस्टर लगाए हैं। पोस्टर में लिखा है कि प्रशासन की दादागीरी की वजह से हिंदू अपने मकानों को बेचने के लिए बाध्य है। इस मामले में प्रशासन ने क्षेत्र में तनाव को देखते हुए धारा १४४ लागू है। मामले को लेकर भाजपा सांसद प्रशासन से बातचीत कर विवाद को सुलझाने की कोशिश कर रहे है, लेकिन लोगों ने इस मामले में भाजपा नेताओं को भी घेरे में लिया है। स्थानीय लोगों द्वारा विधायक के शामिल होने का आरोप भी लगाया जा रहा हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि प्रशासन दादागीरी कर रहा है। जबरन एक विशेष समाज के पक्ष में काम कर रहा है। आज भाजपा सरकार में हिंदुओं के साथ अन्याय होने की स्थिति है, इसलिए हम लोग यहां नहीं रहना चाहेंगे। नतीजन हमने अपने घर बेचने के लिए पोस्टर लगाए हैं।
गौरतलब है कि उस स्थान पर लंबे समय से विवाद चल रहा है। एक नहीं, चार समाजों के बीच विवाद हल रहा है। सभी पक्ष अपना-अपना इस पर अधिकार बताते आए हैं। इसी कब्रिस्तान तक पहुंचने के लिए प्रशासन मार्ग बनाकर दे रही है। इस रास्ते को लेकर निवासी विरोध कर रहे हैं। देवास के स्टेशन रोड स्थित कब्रिस्तान की जमीन पर १३ जनवरी को मंसूरी समाज के लोग जनाजा लेकर पहुंचे तो अन्य समाज के लोग वहां पहुंच गए और जनाजे को रोक दिया। उसके बाद विवाद की स्थिति बन गई। जनाजे को ले जाने पर दो समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए थे। इस दौरान उसके बाद एसडीएम बिहारी सिंह ने दोनों समाज के लोगों से बातचीत कर यथास्थिति बनाए रखने की बात कही। दरअसल, स्टेशन रोड स्थित कब्रिस्तान की जमीन को लेकर ४ समाजों का न्यायालय में प्रकरण चल रहा है, जिसकी अगली तारीख १९ मार्च २४ न्यायालय ने दी हुई है। इस मामले में एसपी जयवीर सिंह भदौरिया ने बताया कि उक्त कब्रिस्तान व मरघट की जमीन को लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा है। इसे लेकर पिछले दिनों दो-तीन बार प्रदर्शन भी हुआ। सभी जगह पर्याप्त व्यवस्था लगाई गई है। किसी भी प्रकार की असंवैधानिक गतिविधि करने की कोशिश करेगा उसको बख्शा नहीं जाएगा। घरो के बाहर लगाए पोस्टर क्षेत्र के सभी मार्ग पर घरों के बाहर स्थानीय लोगों ने पोस्टर लगा दिए हैं। पोस्टर में घर बेचने की बात लिखी है। प्रशासन द्वारा जिस स्थान पर कब्रिस्तान की जमीन के लिए रास्ता दिया जा रहा है।

अन्य समाचार