मुख्यपृष्ठनए समाचारगड़े मुर्दे: बंबिहा-बिश्नोई गैंग और दुश्मनी!

गड़े मुर्दे: बंबिहा-बिश्नोई गैंग और दुश्मनी!

जय सिंह
कनाडा में हिंदुस्थान के ए वैâटेगरी गैंगस्टर सुखविंदर सिंह गिल उर्फ सुक्खा दुनेके का कत्ल कर दिया गया। लॉरेंस बिश्नोई गिरोह ने सुक्खा के कत्ल के बाद सोशल मीडिया पर लिखा- हांजी, सत श्री कॉल, राम राम सारेयां नूं। ये सुक्खा दुनेके, जो बंबिहा ग्रुप का इंचार्ज बना फिरता था, उसका मर्डर हुआ है कनाडा के विनिपेग सिटी में। उसकी जिम्मेदारी लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप लेता है। इस हेरोइन एडिक्टेड नशेड़ी ने सिर्फ अपने नशे को पूरा करने के लिए पैसों के लिए बहुत घर उजाड़े। ये काम हमारे भाइयों ने किया है। हमने अपने भाई संदीप नंगल अंबिया के मर्डर का बदला ले लिया है। उल्लेखनीय बात है कि लॉरेंस गैंग ने ही पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या की थी। इन दोनों हत्याओं के पीछे बिश्नोई गैंग और बंबिहा गैंग की खूनी जंग है, जो सालों से चली आ रही है। आइए जानते हैं कि आखिर बंबिहा गैंग और लॉरेंस बिश्नोई गैंग की दुश्मनी की कहानी क्या है? बात करें बंबिहा गैंग की तो मोगा जिले के बंबिहा गांव में जन्मे दविंदर बंबिहा का असली नाम दविंदर सिंह सिद्धू था। जुर्म की दुनिया में आने से पहले वह एक लोकप्रिय कबड्डी खिलाड़ी हुआ करता था। ९ सितंबर २०१६ को बठिंडा जिले के रामपुरा के पास गिल कलां में २६ वर्षीय दविंदर बंबिहा को एक मुठभेड़ में पंजाब पुलिस ने मार गिराया था। दविंदर तो मर गया, लेकिन उसका गैंग जिंदा रहा। गौरव पटियाल ने गैंग संभाली और पंजाब का बड़ा गैंगस्टर बन गया। खास बात ये है कि पटियाल पहले पुलिस के हत्थे चढ़ा, जेल गया और फिर आर्मेनिया भाग गया। कई साल से पंजाब पुलिस उसे भारत लाने की कोशिश में जुटी है, मगर कोशिश अब तक असफल है। वैसे तो हर गैंग को अपने इलाके में दूसरे गैंग से दिक्कत होती है और ऐसा ही मामला बंबिहा गैंग का है। इसका सबसे बड़ा दुश्मन है बिश्नोई गैंग। कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई जेल में रहकर भी अपना गैंग चलाता है। बंबिहा गैंग ने अक्टूबर २०२० में चंडीगढ़ में गुरलाल बराड़ की हत्या कर दी। गुरलाल गोल्डी बराड़ का छोटा भाई था। गोल्डी बिश्नोई गैंग का सदस्य है। गुरलाल भी लॉरेंस का करीबी था। गुरलाल की हत्या की साजिश आर्मेनिया में रची गई थी। इसी हत्या के बाद बिश्नोई गैंग और बंबिहा गैंग के बीच दुश्म्ानी बढ़ती जाती है। अगस्त २०२१ में मोहाली में विक्की मिद्दूखेड़ा की हत्या होती है। विकी मिद्दूखेड़ा की हत्या के बाद बंबिहा गैंग ने इसकी जिम्मेदारी ली थी। इसके बाद लॉरेंस बिश्नोई गैंग ने २९ मई २०२२ को सिद्धू मूसेवाला की हत्या कर गुरलाल और मिद्दूखेड़ा की मौत का बदला लिया। इस घटना के बाद बंबिहा गैंग ने लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ से सिद्धू मूसेवाला की मौत का बदला लेने की बात कही थी और पिछले साल सितंबर में राजस्थान के नागौर में सेठी गिरोह के सदस्य संदीप बिश्नोई उर्फ सेठी की हत्या कर दी गई थी। संदीप बिश्नोई लॉरेंस बिश्नोई का भी खास था। बंबिहा गैंग ने अपनी सोशल मीडिया पोस्ट में इस हत्याकांड की जिम्मेदारी लेते हुए लिखा कि लॉरेंस बिश्नोई, जग्गू भगवानपुरिया और गोल्डी बराड़ का भी ऐसा ही हाल होगा। अब लॉरेंस बिश्नोई ने सुक्खा की हत्या की जिम्मेदारी लेते हुए गुरलाल, मिद्दूखेड़ा और संदीप की मौत का बदला करार दिया।

अन्य समाचार