मुख्यपृष्ठनए समाचारकाल को कॉल! : युवाओं की पसंद बन रही है हादसों...

काल को कॉल! : युवाओं की पसंद बन रही है हादसों की वजह

सामना संवाददाता / ठाणे
सड़क हादसे दुनियाभर में हर साल होनेवाली सर्वाधिक मौतों की सबसे बड़ी वजह बनते हैं। सड़कों पर होनेवाले ज्यादातर हादसे लोगों की लापरवाही के कारण ही होते हैं। उसमें भी तेज रफ्तार का शौक वाहन चालकों के हादसाग्रस्त होने की सबसे बड़ी वजह साबित होता है। इस सच्चाई को जानने के बाद भी लोग रफ्तार के मोह को छोड़ नहीं पाते हैं। खासकर युवा पीढ़ी रफ्तार के शौक के चक्कर में काल को कॉल कर रही है यानी कि मौत को दावत दे रही है। दोपहिया वाहनों की शौकीन युवा पीढ़ी में स्पोर्ट्स बाइक के प्रति बढ़ते आकर्षण के गंभीर परिणाम सामने आ रहे हैं। बात अकेले ठाणे जिले की करें तो जनवरी से
अप्रैल २०२२ तक ठाणे पुलिस कमिश्नरेट क्षेत्र में स्पोर्ट्स बाइक के ७० हादसे हुए हैं, जिनमें ३० लोगों की मौत हो गई जबकि १०१ लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए हैं। बता दें कि बच्चा नाराज न हो जाए इसलिए माता-पिता अपने बच्चों को स्पोर्ट्स बाइक खरीद देते हैं। स्पोर्ट्स बाइक की कीमत अधिक होने के कारण उसकी रफ्तार और उसकी इंजन की क्षमता (सीसी) बहुत ज्यादा होती है। रफ्तार अधिक होने के कारण अक्सर चालक बाइक से अपना नियंत्रण खो देता है, जो कि ब़ड़े हादसे की वजह बन जाता है। इस बारे में जानकारों का कहना है कि १०० सीसी से २०० सीसी की मोटरसाइकिल की रफ्तार को नियंत्रित करना कुछ हद तक आसान होता है, लेकिन युवाओं में ५०० से एक हजार सीसी की स्पोर्ट्स बाइक का जुनून बढ़ रहा है। नतीजतन स्पोर्ट्स बाइक जिस रफ्तार से आगे बढ़ती है, ठीक उसी रफ्तार से हादसे और मौतें बढ़ रही हैं। युवाओं पर स्पोर्ट्स बाइक का खुमार इस कदर चढ़ा है कि रफ्तार के चक्कर में बाइक को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है, इसी वजह से दुर्घटनाएं होती हैं और बाइक चालक और सहसवार को अपनी जान गंवानी पड़ रही है। आंकडों के अनुसार पिछले ४ महीनों में कुल ७० दुर्घटनाओं में ३१ स्पोर्ट्स बाइक चालकों ने रफ्तार के चक्कर में अपनी जान गवां दी है, वहीं कुल १०१ सहसवार जख्मी हुए हैं।

अन्य समाचार