मुख्यपृष्ठनए समाचारमुंबई में `ड्रग्स का डेरा'! ...तस्करी में मुंबई पहले स्थान पर

मुंबई में `ड्रग्स का डेरा’! …तस्करी में मुंबई पहले स्थान पर

• गांजा बिक्री में नागपुर है `टॉप’
मुंबई में ड्रग्स की तस्करी तेजी से हो रही है। युवाओं में भी नशे की लत काफी हद तक बढ़ गई है। इसी वजह से मुंबई में ड्रग्स डिमांड जोरों पर है। मुंबई में `ड्रग्स का डेरा’ जमने लगा है। मिली जानकारी के मुताबिक, सबसे ज्यादा नशीली दवाओं की तस्करी मुंबई में हो रही है और १६ अगस्त तक ९९७ मामलों में ४६ करोड़ की ड्रग्स जब्त की गई है, जबकि नागपुर राज्य में दूसरे नंबर पर है। यह चौंकाने वाली जानकारी राज्य पुलिस की वेबसाइट से मिली है।
बता दें कि इस समय राज्य में बड़े पैमाने पर नशीली दवाओं और अन्य नशीले पदार्थों की तस्करी और बिक्री बढ़ गई है। नशीली दवाओं की लत पहले अभिजात्य वर्ग तक ही सीमित थी। हालांकि, अब ड्रग्स का संकट कॉलेज के छात्रों से लेकर स्कूली बच्चों तक और बड़ी आईटी कंपनियों के दफ्तर तक पहुंच गया है। इसमें कई दलाल सक्रिय हैं क्योंकि दवाओं से होने वाला राजस्व करोड़ों में है। मुंबई और गोवा दो ऐसे शहर हैं, जो मादक पदार्थों की तस्करी का केंद्र हैं।
बता दें कि मुंबई से महाराष्ट्र के तमाम शहरों में ड्रग्स, हेरोइन, एमडी, चरस और कोकीन की डिलीवरी होती है। कमजोर पुलिस नेटवर्क और रिपोर्टों के कारण मादक पदार्थों की तस्करी आज भी बड़े पैमाने पर हो रही है। कई मादक पदार्थ तस्करों के राजनीतिक संबंध हैं और कुछ के पुलिस विभाग से होने के कारण ड्रग्स तस्करों पर लगाम नहीं लग पा रही है।
लड़किया भी कम नहीं
नशीली दवाओं का उपयोग शारीरिक और यौन क्षमता को बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसीलिए युवाओं में नशे की लत बढ़ी है। जो युवा महिलाएं पब और क्लबों में मारिजुआना सिगरेट से शुरुआत करती हैं, वे कुछ दिन बाद नशीली दवाओं की आदी हो जाती हैं फिर ड्रग्स पाने के लिए वेश्यावृत्ति तक कर बैठती हैं। इसके अलावा कई क्लबों में युवतियों को नशे की लत लगाई जाती है।
पुलिस का साथ
पुलिस की एनडीपीएस टीम के मुंबई से राज्य पार करने वाले ड्रग तस्करों के साथ `सार्थक’ संबंध हैं, क्योंकि करोड़ों में ड्रग्स की खरीद-फरोख्त हो रही है। ऐसे में अगर ड्रग्स पुलिस के हाथ लग जाए तो भारी नुकसान होता है, इसलिए तस्करों के गिरोह सीधे पुलिस से हाथ मिला लेते हैं। पुलिस की इसी भूमिका के कारण देश की युवा पीढ़ी नशे की आदी होती जा रही है। बताया जाता है कि भले ही पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी `ड्रग्स प्रâी सिटी’ अभियान चला रहे हैं, लेकिन कर्मचारी पैसा कमाने के लिए समझौता कर रहे हैं।
ड्रग्स बिक्री के आंकड़े
शहर             कार्रवाई             गिरफ्तार             कीमत
मुंबई-              ९९७                १,१६१          रु. ४६ करोड़ २८ लाख
नागपुर              ३०२                ३८८            रु. २ करोड़ ३१ लाख
पुणे                   ९०                १०८            रु. १ करोड़ २० लाख

अन्य समाचार

लालमलाल!