मुख्यपृष्ठसमाचारलखनऊ-वाराणसी इंटरसिटी एक्सप्रेस में मिले युवती के शव के मामले ने पकड़ा...

लखनऊ-वाराणसी इंटरसिटी एक्सप्रेस में मिले युवती के शव के मामले ने पकड़ा तूल

-परिजनों व पाल समाज के लोगों ने जिला मुख्यालय पर किया चक्काजाम

उमेश गुप्ता / वाराणसी

वाराणसी के बनारस स्‍टेशन पर लखनऊ-वाराणसी इंटरसिटी एक्सप्रेस में 21 फरवरी को बोरे में 17 वर्षीय मोनिका पाल का शव मिलने का मामला तूल पकड़ने लगा है। एक सप्‍ताह से अधिक दिन बीतने के बाद भी इस मामले में अब तक हत्‍यारों की गिरफ्तारी नहीं होने से क्षुब्‍ध परिजन व पाल समाज के लोगों का गुस्‍सा सड़क पर आ गया। इसको लेकर बुधवार को सैकड़ों की संख्या में राष्ट्रीय धनगर महासभा के बैनर तले ग्रामीण परिजनों संग जिला मुख्यालय पहुंचे और चक्‍काजाम कर धरने पर बैठ गए। उन्‍होंने पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी और कपसेठी थाना के प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।
जिला मुख्यालय पहुंचे आक्रोशित लोगों की जानकारी मिलते ही कचहरी चौकी प्रभारी सौरभ पांडेय ने उन्हें रोका। एसीपी कैंट और प्रभारी निरीक्षक कैंट ने भी पहुंचकर समझाने की कोशिश की। परिजन लगातार कपसेठी पुलिस पर हीला-हवाली का आरोप लगाते हुएनारेबाजी कर रहे थे। एसीपी ने किसी तरह आक्रोशित जनता को समझाया। पुलिस कमिश्नर को संबोधित ज्ञापन संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी धनगर ने सौंपा।
मोनिका पाल के हत्यारों की गिरफ्तारी न होने से नाराज संगठन के लोगों और परिजनों ने कपसेठी पुलिस पर जान-बूझकर हत्यारों की गिरफ्तारी न करने का आरोप लगाया। पुलिस किशोरी की साइकिल का भी पता नहीं लगा सकी। संस्था के लोगों ने अल्टीमेटम दिया है कि यदि एक सप्ताह के अंदर मोनिका पाल के हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं की गई और थाना प्रभारी कपसेठी को निलंबित नहीं किया गया तो 6 मार्च से अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया जाएगा। इसके अलावामोनिका पाल के परिजनों को कम से कम 20 लाख रुपए की अर्थिक मदद की मांग की गई।
बाद में सगठन के लोगों ने इस संबंध में पुलिस कमिश्‍नर मुथा अशोक जैन से मुलाकात की। पुलिस कमिश्‍नर ने बताया कि इस मामले में विवेचना की जा रही है। एसओजी, स्‍थानीय पुलिस व क्षेत्रके पुलिस अधिकारियों की टीम को लगाया गया है। जल्‍द ही आरोपित पुलिस की गिरफ्त में होंगे। आपको बता दें कि कपसेठी थाना क्षेत्र के भिटकुरी गांव की किशोरी शव मिलने के एक दिन पूर्व घर से सहेली के यहां जाने की बात कहकर साइकिल से निकली थी। इसके बाद घर नहीं लौटी। इस बीच 21 फरवरी की रात बनारस स्‍टेशन परलखनऊ इंटरसिटी एक्‍सप्रेस के जनरल कोच में बोरे में किशोरी का शव मिला था। किशोरी के हाथ-पैर नायलोन की रस्‍सी से बंधे थे। मशक्‍कत के बाद उसकी शिनाख्‍त संभव हो सकी थी। खास बात यह रही कि दम घुटने से उसकी मौत हुई थी और वह गर्भवती भी थी।

अन्य समाचार