मुख्यपृष्ठअपराध‘डॉन' के गुर्गों की दुबई में सेलिब्रेशन पार्टी ...बॉलीवुड सितारों को ४०...

‘डॉन’ के गुर्गों की दुबई में सेलिब्रेशन पार्टी …बॉलीवुड सितारों को ४० करोड़ रुपए दिए जाने का संदेह

सामना संवाददाता / मुंबई 
अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के दो गुर्गों द्वारा पिछले साल अवैध रूप से सट्टेबाजी का ऐप लांच किया गया था, जिसे काफी सफलता मिली है। इस सट्टेबाजी ऐप की सफलता का जश्न मनाने के लिए १८ सितंबर को डॉन के गुर्गों की दुबई में सेलिब्रेशन पार्टी का आयोजन किया गया है, जिसमें कई मशहूर बॉलीवुड अभिनेताओं और अभिनेत्रियों को बुलाया गया है। इसके बदले उन्हें एडवांस में ४० करोड़ रुपए तक का भुगतान करने के संदेह में ईडी ने एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी पर छापा मारा है।
जानकारी के अनुसार सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल दोनों ही दाऊद के गुर्गे बताए जाते हैं। जांच एजेंसियां पहले भी इनके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी कर चुकी हैं। दोनों ने हाल ही में महादेव ऐप लांच किया था, जिसके माध्यम से अवैध सट्टेबाजी और वैâसिनो की सुविधा दी जाती है। ऐप को मिल रही शानदार सफलता पर जश्न मनाने के लिए १८ सितंबर को दुबई में एक सेलिब्रेशन पार्टी का आयोजन किया गया है।
बॉलीवुड सितारों की भी होगी जांच?
ईडी अधिकारियों को जानकारी मिली है कि बॉलीवुड में कई प्रमुख अभिनेता और अभिनेत्रियों ने महादेव ऐप का जमकर प्रचार किया है। माना जा रहा है कि ईडी के अधिकारी जल्द ही इस मामले में बॉलीवुड के कुछ सितारों को नोटिस भेजकर बुलाने वाले हैं और इसकी जांच करेंगे क्योंकि कई सितारों को पैसे देकर पार्टी में बुलाया गया है।
 ऐप  के माध्यम से करोड़ों का टर्नओवर
हालांकि, यह ऐप भारत में बैन है, लेकिन विदेशों में कई लोग इस ऐप के जरिए सट्टा लगा रहे हैं। ईडी अधिकारियों को यह भी जानकारी मिली है कि इस ऐप कंपनी ने अब तक ६ हजार करोड़ रुपये का कारोबार किया है और यह भी पता चला है कि भारत से आया पैसा हवाला के जरिए दुबई पहुंचा है। इस ऐप पर पोकर, कार्ड, क्रिकेट, बैडमिंटन, क्रिकेट, टेनिस, फुटबॉल जैसे कई खेलों पर भी सट्टेबाजी देखी गई है। इस पार्टी के आयोजन का जिम्मा उन्होंने मुंबई की एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी को दिया है। इस कंपनी ने पार्टी में बॉलीवुड के कई मशहूर कलाकारों को आमंत्रित किया है। ईडी अधिकारियों को जानकारी मिली कि उनसे एग्रीमेंट किया गया और इस पार्टी के लिए उन्हें लगभग ४० करोड़ रुपये का भुगतान भी किया गया है। ईडी को शक है कि यह पैसा इस ऐप कंपनी ने अवैध तरीके से कमाई गई रकम से दिया है। इस मामले में ईडी के अधिकारियों ने  इस कंपनी के दफ्तर पर छापेमारी कर जांच शुरू कर दी है।

अन्य समाचार