मुख्यपृष्ठनए समाचारतीन राज्यों में विजय के लिए मोदी, शाह के साथ ही केंद्रीय...

तीन राज्यों में विजय के लिए मोदी, शाह के साथ ही केंद्रीय जांच एजेंसियों का अभिनंदन करना चाहिए, संजय राऊत का जोरदार तंज

सामना संवाददाता / मुंबई
चार राज्यों में आए चुनाव के नतीजों पर शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता व सांसद संजय राऊत ने जोरदार तंज कसते हुए भाजपा पर मध्य प्रदेश में महिलाओं के वोट खरीदने का आरोप लगाया। राजस्थान में कांग्रेस ने उत्तम कार्य किए हैं, इसके बावजूद जनता ने परंपरागत पांच सालों में सत्ता परिवर्तन किया है। राजस्थान में हर पांच साल में जनता सरकार बदलती है। वह इस बार भी कायम दिखा। संजय राऊत ने तंज कसते हुए कहा कि मोदी, शाह के साथ ही जांच एजेंसियों का अभिनंदन करना चाहिए, इसमें उनका भी श्रेय है। कांग्रेस ने राजस्थान में ७० सीटें जीती हैं। वहां अशोक गेहलोत सरकार ने उत्तम काम किया है।
फिर भी जनता ने परंपरा के अनुरूप सत्ता परिवर्तन किया है। हालांकि, मध्य प्रदेश की हार के लिए स्थानीय नेता कमलनाथ और दिग्विजय सिंह जिम्मेदार दिखाई दे रहे हैं। इसके अलावा छत्तीसगढ़ की हार चौंकानेवाली है। संजय राऊत ने कहा कि कांग्रेस के साथ ही ‘इंडिया’ गठबंधन को विश्लेषण और आत्मचिंतन करने की जरूरत है। सर्वेक्षण में तस्वीर दिखी थी कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ही आएगी, इसलिए इस हार को लेकर कांग्रेस को आत्मचिंतन करना होगा।
मध्य प्रदेश में यह दिखाई दिया है कि कमलनाथ जैसे नेताओं को जनता ने नापसंद कर दिया है। यहां राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और मल्लिकार्जुन खड़गे ने कड़ी मेहनत की थी। हालांकि, यहां की असफलता स्थानीय नेताओं की है, यह स्वीकार करना जरूरी है। मध्य प्रदेश में कांग्रेस को ‘इंडिया’ गठबंधन के रूप में चुनाव लड़ने की जरूरत थी। अगर अखिलेश की पार्टी को कुछ सीटें दी होती, तो यहां एक अलग तस्वीर दिखती। इसके अलावा देश या राज्य में ‘इंडिया’ गठबंधन के तौर पर एक साथ चुनाव लड़ने के लिए एक सबक लेने की आवश्यकता है। तेलंगाना में राहुल गांधी और कांग्रेस को अच्छा प्रतिसाद मिला है। कोई प्रख्यात चेहरा न होने के बाद भी जनता ने कांग्रेस को समर्थन दिया है। यह जीत कांग्रेस के लिए महत्वपूर्ण है। हालांकि, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ को लेकर कांग्रेस को आत्मचिंतन करने की जरूरत है। इस तरह का मत भी उन्होंने व्यक्त किया।
शिवसेना सांसद ने कहा कि अब भाजपा का जल्लोस शुरू हो गया है। लोकतंत्र में जनता की पसंद को मानना पड़ता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने देश के महत्वपूर्ण मुद्दों को बगल में रखकर राज्यों के चुनावों पर ध्यान वेंâद्रित किया था। सरकारी मशीनरी को काम पर लगा दिया था। मोदी, शाह के साथ ही वेंâद्रीय जांच एजेंसियों का अभिनंदन करना होगा। यहां तक कि जब मतदान शुरू था, तब भी एजेंसियां राजनीतिक विरोधियों पर छापे मारने का काम कर रही थीं। विरोधियों के प्रचार में रुकावट पैदा हो जाएगी, इस तरह इनका काम शुरू था। यह सही में जनता को पसंद होगा तो हम उसे मान्य करते हैं, ऐसा संजय राऊत ने कहा।
मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह को जनता ने स्वीकारा है। चुनाव से पहले वे लाडली बहना जैसी योजनाएं लाए। उन्होंने महिलाओं के वोट खरीद लिए। मध्य प्रदेश में जीत का श्रेय जितना मोदी को है, उतना ही शिवराज सिंह चौहान को भी है। यह उनका पांचवां टर्म है। यह महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही आगे ‘इंडिया’ गठबंधन का नेतृत्व मजबूत होगा। आगामी लोकसभा चुनाव पर इसका असर नहीं होगा। ‘इंडिया’ मजबूत है और मजबूत रहेगा। इंडिया गठबंधन की बैठक ६ तारीख को होने जा रही है। इसमें देशभर के नेता एक साथ होंगे। संजय राऊत ने कहा कि इस बैठक में इस बारे में भी चर्चा होगी।

अन्य समाचार