मुख्यपृष्ठटॉप समाचारदिल्ली के दमन को चुनौती! कांग्रेस ने किया यलगार; विपक्ष को...

दिल्ली के दमन को चुनौती! कांग्रेस ने किया यलगार; विपक्ष को खत्म करने का लगाया केंद्र पर आरोप

  •  राहुल-प्रियंका ने दी गिरफ्तारी
  •  कांग्रेसी नेताओं को लिया गया हिरासत में
  • जनता ने भी दर्ज कराया निषेध

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी की सरकार लगातार चुनाव जीतने से अति उत्साहित हो गई है। जनादेश को मनमानी का अधिकार मान चुकी भाजपाई सरकार निरंकुश होकर सत्ता का दुरुपयोग कर रही हैं। भाजपा के लोग विरोधियों के साथ-साथ अपने सहयोगियों को भी नहीं बख्श रहे हैं। वेंâद्रीय एजेंसियों को मोहरा बनाकर विरोधियों, सहयोगियों एवं पार्टी के अपने प्रतिद्वंद्वियों को तोड़ने, झुकाने अन्यथा खत्म करने के लिए भाजपाई किसी भी हद तक गिरने में भी संकोच नहीं कर रहे हैं। दूसरी तरफ जनता भी भाजपा को सत्ता के शिखर तक पहुंचाने की सजा भुगत रही है। भाजपा की गलत नीतियों के कारण लगातार मंहगाई बढ़ती जा रही है। कभी पेट्रोल, कभी डीजल, तो कभी सीएनजी, पीएनजी व रसोई गैस के दाम बढ़ने से लोग पहले ही बेजार हो चुके हैं। उस पर जीएसटी की नई दरें कोढ़ में खाज का काम कर रही है। भाजपा की इस दमनशाही को चुनौती देने के लिए कांग्रेस ने यलगार का एलान कर दिया है। कल मुंबई से दिल्ली सहित पूरे देश में कांग्रेसियों ने केंद्र  की मोदी सरकार के खिलाफ उग्र विरोध प्रदर्शन किया।
कांग्रेस ने महंगाई, जीएसटी और वेंâद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ शुक्रवार को सुबह से ही संसद से सड़क तक प्रदर्शन किया। संसद में सोनिया गांधी सहित काले कपड़े पहने कांग्रेसी सांसदों ने नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन शुरू किया। उसके बाद राहुल संसद से राष्ट्रपति भवन तक मार्च निकालने के लिए निकले। राहुल गांधी के साथ काले कपड़े पहने कांग्रेस सांसद और अन्य नेता प्रदर्शन करने निकले, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया और हिरासत में ले लिया। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की बड़ी संख्या को देखकर अकबर रोड पर भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई। पुलिस ने तीन लेयर में जवानों को तैनात किया। किसी भी कार्यकर्ता को अंदर नहीं जाने दिया गया।
उसके बाद पार्टी मुख्यालय में मौजूद प्रियंका गांधी ने मोर्चा संभाला और वे अपने सांसदों के साथ पीएम आवास घेरने के लिए निकल पड़ीं, लेकिन पुलिस ने उन्हें भी आगे नहीं बढ़ने दिया। प्रियंका के साथ मौजूद कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए पुलिस ने बैरिकेडिंग की थी। प्रियंका को कांग्रेस मुख्यालय के सामने पुलिस ने रोका, तो प्रियंका गांधी इसे लांघकर आगे बढ़ने की कोशिश करने लगीं। प्रियंका गांधी ने पुलिस वालों से महंगाई का विरोध करके जनता की आवाज उठाना उनका अधिकार है। फिर भी पुलिस ने उन्हें रोक दिया, नतीजतन वे वहीं सड़क पर धरना देने बैठ गयीं । इसके बाद पुलिस ने उन्हें भी हिरासत में ले लिया। प्रदर्शन में शामिल अजय माकन, सचिन पायलट, हरीश रावत, अविनाश पांडे सहित कई बड़े कांग्रेसी नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया।
प्रदर्शन को देखते हुए जंतर-मंतर इलाके को छोड़ पूरी दिल्ली में धारा १४४ लगाई गई थी। इसके बावजूद विरोध प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसी नेताओं को दिल्ली पुलिस हिरासत में लेकर किंग्सवे वैंâप पुलिस लाइन पहुंची। वहां मल्लिकार्जुन खड़गे, जयराम रमेश और रंजीत रंजन सहित अन्य कांग्रेसी सांसदों को लाया गया है। कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि सरकार हमें महंगाई के खिलाफ विरोध करने से रोकना चाहती है, इसलिए लगातार कांग्रेस नेताओं को परेशान कर रही है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राहुलजी ने जो कहा आप समझ लें कि देश में क्या हालात हैं? किसी ने नहीं सोचा होगा कि देश में लोगों को लोकतंत्र समाप्त होते देखना होगा। देश में ईडी, इनकम टैक्स, सीबीआई का आतंक है।

जो डरता है, वो धमकाता है – राहुल गांधी
राहुल ने कहा कि मीडिया, इलेक्टोरल सिस्टम की विश्वसनीयता पर लोकतंत्र टिका होता है, लेकिन देश में हर संस्थान में आरएसएस के लोग बैठे हैं। वह सरकार के वंâट्रोल में है। जब हमारी सरकार होती थी तब इन्प्रâास्ट्रक्चर न्यूट्रल होता था। हम उसमें दखल नहीं देते थे। आज इस सरकार का कोई विरोध करता है तो उसके खिलाफ वेंâद्रीय जांच एजेंसियां लगा दी जाती हैं। उन्होंने आगे कहा कि लोकतंत्र की जो मौत हुई, उससे आपको कैसा  लग रहा है? जिस लोकतंत्र को ७० सालों में बनाया गया, उसे आठ साल में खत्म कर दिया गया। मेरी दिक्कत ये है कि मैं सच्चाई बोलूंगा, महंगाई, बेरोजगारी का मुद्दा उठाने का काम करूंगा, जो डरता है, वो धमकाता है। आज देश की जो हालत है उससे डरते हैं, जो उन्होंने पूरे नहीं किए, महंगाई और बेरोजगारी से डरते हैं। जनता की शक्ति से डरते हैं, क्योंकि ये २४ घंटा झूठ बोलते हैं।

अन्य समाचार