मुख्यपृष्ठस्तंभचंदा मामा के पास है खनिजाें का खजाना! ...प्रज्ञान ने भेजी खुशखबरी

चंदा मामा के पास है खनिजाें का खजाना! …प्रज्ञान ने भेजी खुशखबरी

• दक्षिणी ध्रुव पर मिला सल्फर
चंद्रयान-३ का प्रज्ञान रोवर चांद पर से रोज नई खबर भेज रहा है। खास बात ये है कि प्रज्ञान को वहां पर मूल्यवान खनिजों का खजाना मिला है। हिंदुस्थान चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरकर शोध करने वाला पहला देश बन गया है और इससे चंद्रमा के बारे में नई जानकारियां सामने आने लगी हैं। विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग के बाद प्रज्ञान रोवर तेजी के साथ रिसर्च कार्य में जुट गया है। है। ताजा खबर के अनुसार, प्रज्ञान की मदद से चल रहे शोध से चंद्रमा पर सल्फर और अन्य तत्वों की मौजूदगी की पुष्टि हुई है।
प्रज्ञान पर लेजर-प्रेरित ब्रेकडाउन स्पेक्ट्रोस्कोप (एलआईबीएस) उपकरण द्वारा सल्फर की उपस्थिति की पुष्टि की गई थी। एलआईबीएस उपकरण के निष्कर्षों की जांच एक अन्य ऑनबोर्ड उपकरण, अल्फा पार्टिकल एक्स-रे स्पेक्ट्रोस्कोप (एपीएक्सएस) द्वारा की गई, जिससे अन्य छोटे तत्वों के बीच सल्फर की उपस्थिति के बारे में भी जानकारी मिली।
एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर इसरो ने लिखा, ‘रोवर के एक अन्य तकनीक ने इस क्षेत्र में सल्फर (एस) की होने की पुष्टि की। अल्फा कण एक्स-रे स्पेक्ट्रोस्कोप ने सल्फर के साथ-साथ अन्य तत्वों का भी पता लगाया है। चंद्रयान-३ की यह खोज वैज्ञानिकों को इस क्षेत्र में पाए जाने वाले सल्फर के स्रोत का पता लगाने के लिए प्रेरित कर रही है। इसरो ने चंद्रयान-३ रोवर का एक वीडियो भी साझा किया और लिखा, ‘वीडियो में एक स्वचालित प्रणाली को १८ सेमी लंबे एपीएक्सएस को घूमते हुए दिखाया गया है, जिसमें डिटेक्टर हेड चंद्र सतह से लगभग ५ सेमी ऊपर है। एपीएक्सएस को पीआरएल अमदाबाद द्वारा विकसित किया गया है, जबकि यूआरएससी, बंगलुरु ने एक तकनीकी तंत्र विकसित किया है।

पृथ्वी से काफी समानता
वैज्ञानिकों का कहना है कि चांद और पृथ्वी के बीच काफी समानता है। इसकी प्रमुख वजह है कि चांद, पृथ्वी से टूटकर ही अलग हुआ है। पृथ्वी का ही अंश होने के कारण पृथ्वी पर पाए जानेवाले काफी खनिजों के वहां मिलने की संभावना है।

अन्य समाचार