मुख्यपृष्ठनए समाचारबिना मंजूरी बेस्ट बस का रंग बदला ... स्टेट ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी से...

बिना मंजूरी बेस्ट बस का रंग बदला … स्टेट ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी से नहीं लिया गया था कलर अप्रूवल

सामना संवाददाता / मुंबई 
बेस्ट द्वारा हाल ही में कई बसों को रोड पर उतारा गया है। इनमे कई बसों का कलर चर्चा का विषय बना हुआ है। बेस्ट ने अपनी नई डबल-डेकर इलेक्ट्रिक बसों और गहरे नीले प्रीमियम बसों की रंग योजना के लिए ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी से अनिवार्य मंजूरी नहीं ली है। जब भी कोई नई प्रकार की सार्वजनिक परिवहन बस को जारी किया जाता है तो उस दौरान उसके लिए स्टेज वैâरिज परमिट जारी की जाती है। महाराष्ट्र सरकार के परिवहन सचिव की अध्यक्षता वाली संस्था, स्टेट ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी (एसटीए) की मंजूरी अनिवार्य है। बेस्ट अधिकारियों के अनुसार, उपक्रम को अशोक लीलैंड की सहायक कंपनी स्विच मोबिलिटी से लगभग ३० डबल-डेकर ई-बसें और ६० से अधिक सिंगल-डेकर गहरे नीले रंग की बसें प्राप्त हुई हैं। मुंबई में ताड़देव और नई मुंबई में वाशी आरटीओ ने लगभग दो दर्जन डबल-डेकर ई-बसों को `सिग्नल लाल’ रंग के रूप में रजिस्टर किया था, हालांकि, उनका बाहरी हिस्सा वास्तव में लाल और काले रंग का था।
गैर जिम्मेदार बेस्ट प्रशासन! 
३,००० से अधिक बसों के बेड़े के साथ, बृहन्मुंबई नगर निगम का बेस्ट उपक्रम हर दिन मुंबई और पड़ोसी ठाणे, नई मुंबई और मीरा-भायंदर में ३० लाख से अधिक यात्रियों को यात्रा कराता है।

अन्य समाचार