मुख्यपृष्ठनए समाचारराम मंदिर के नाम पर धोखा!

राम मंदिर के नाम पर धोखा!

सामना संवाददाता / लखनऊ

 विहिप ने किया सोशल मीडिया प्रâॉड का पर्दाफाश

 फर्जी ‘क्यूआर कोड’ के जरिए मांगा जा रहा है चंदा

अयोध्या में राम मंदि‍र की प्राण प्रत‍िष्‍ठा में कुछ दिन ही बचे हैं। इसी दौरान एक साइबर ठगी का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। भक्तों से निर्माण के लिए दान इकट्ठा करने की आड़ में धोखाधड़ी की जा रही है। इसके लिए ‘क्यूआर कोड’ का इस्तेमाल किया जा रहा है।
अयोध्या में राम के नाम पर हो रही इस ठगी को विहिप (वि‍श्‍व हिंदू पर‍िषद) की ओर से उजागर कि‍या गया है। संस्था ने सोशल मीडिया पर चेतावनी भी जारी की है और लोगों से इस घोटाले का शिकार न होने को कहा है। विहिप के प्रवक्ता विनोद बंसल ने सोशल साइट ‘एक्स’ पर खुलासा किया कि ‘श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र अयोध्या उत्तर प्रदेश’ शीर्षक से एक फर्जी सोशल मीडिया पेज बनाया गया है। क्यूआर कोड से लैस यह पेज यूजर्स से राम मंदिर निर्माण के नाम पर धन योगदान करने के लिए कहता है। वि‍नोद बंसल की ओर से दो अलग-अलग पोस्‍ट शेयर किए गए हैं। उन्‍होंने श्रीराम मंदि‍र नि‍र्माण के लि‍ए फर्जी तरीके से चंदा मांगने वाले ‘क्‍यूआर’ कोड के स्‍क्रीनशॉट भी शेयर कि‍ए हैं। उन्होंने लिखा, सावधान..!!, श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के नाम से फर्जी आईडी बना कर कुछ लोग पैसा ठगी का प्रयास कर रहे हैं। गृह मंत्रालय दिल्ली पुलिस और यूपी पुलिस को ऐसे लोगों के विरूद्ध अविलम्ब कार्रवाई करनी चहिए। श्रीराम तीर्थ ने इस तरह का कार्य करने के लि‍ए कि‍सी भी बॉडी को अध‍िकृत नहीं कि‍या है। विहिप के अयोध्या के एक सदस्य ने भी ठगी करने वाले से फोन पर बात की। राम मंदिर के नाम पर चंदा मांगने वाले व्यक्ति ने कथित तौर पर कहा, ‘जितना हो सके उतना योगदान करें। आपका नाम और नंबर डायरी में नोट किया जाएगा। जब मंदिर पूरा हो जाएगा, तो आप सभी को अयोध्या में आमंत्रित किया जाएगा। मैं अयोध्या से बोल रहा हूं।’ विहिप ने एक वीडियो संदेश जारी कर कहा कि उन्हें हाल ही में राम मंदिर के नाम पर लोगों को ठगने की कोशिशों के बारे में जानकारी मिली है। बंसल ने वीडियो संदेश में कहा कि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास ने किसी को भी धन इकट्ठा करने के लिए अधिकृत नहीं किया है। मैंने गृह मंत्रालय, उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक और दिल्ली के पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर सख्त कार्रवाई की मांग की है ताकि लोग इस तरह की धोखाधड़ी का शिकार न हों।

अन्य समाचार