मुख्यपृष्ठसमाचारछिंदवाड़ा हुआ पानी-पानी! सतपुड़ा की वादियों ने हरियाली की चादर ओढ़ी

छिंदवाड़ा हुआ पानी-पानी! सतपुड़ा की वादियों ने हरियाली की चादर ओढ़ी

इमरान खान / छिंदवाड़ा

महाराष्ट्र सीमा से लगे मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में इस साल अब तक लगातार हुई भारी बारिश से जिले के १२७ जलाशय जहां १०० फीसदी भर गए हैं, वहीं अगस्त में हुई बरसात से अधिकांश बांध छलकने की स्थिति में हैं। जिले के सबसे बड़े बांध माचागोरा के फिलहाल ६ गेट खोलने पड़ गए। लगातार हुई बारिश से छिंदवाड़ा के चौरई और चांद ब्लॉक में अधिकांश किसानों के खेतों में पानी भर गया, जिसके कारण खेतों में खड़ी मक्के की फसल पीली पड़ रही है। सोयाबीन में भी पीलापन आने लगा है। किसानों का कहना है कि लगातार बारिश से औसत उत्पादन प्रभावित होगा।
वहीं भारी बारिश के बाद गुरुवार को छिंदवाड़ा में सतपुड़ा पर्वत श्रृंखला का सौंदर्य निखर आया है। नागपुर रोड पर सिल्लेवानी के जंगलों के बीच स्थित कुकड़ीखापा जलप्रपात की छटा देखने लायक है। हरियाली से भरपूर इस क्षेत्र में कुकड़ीखापा जलप्रपात से लगभग ६० फीट की ऊंचाई से जलधारा गिरती है। यहां सड़क मार्ग और रेल दोनों से पर्यटक पहुंच रहे हैं। महाराष्ट्र विशेषकर नागपुर से आनेवाले पर्यटकों की तादाद बढ़ रही है। पहाड़ी झरना होने के कारण बारिश में ये अपने शबाब पर रहता है। छिंदवाड़ा नागपुर रेल मार्ग में उमरानाला एवं रामाकोना रेल्वे स्टेशन के बीच स्थित कुकड़ीखापा रेल्वे स्टॉपेज के नजदीक है। पूरा छिंदवाडा पानी-पानी हो गया है।

अन्य समाचार