मुख्यपृष्ठविश्वइकोनॉमिक कॉरिडोर के बहाने चीन कर रहा मनमानी ....ड्रैगन के जाल में...

इकोनॉमिक कॉरिडोर के बहाने चीन कर रहा मनमानी ….ड्रैगन के जाल में फंसे पाकिस्तानी!

• पाक के शहरों में धड़ल्ले से बिक रही चीनी बीयर
एजेंसी / इस्लामाबाद
चीन ने पाकिस्तान जैसे इस्लामिक मुल्क में नशे का जाल पैâला दिया है। चीन की एक कंपनी यहां करीब एक लाख लीटर बीयर रोजाना बना रही है। सिंध और बलूचिस्तान के अलावा तमाम बड़े शहरों में इस बीयर की खपत तेजी से बढ़ रही है। पाकिस्तान में शराब को लेकर सख्त कानून हैं। यहां इसकी बिक्री को लेकर स्पेशल लाइसेंस दिए जाते हैं। कुछ साल पहले तक शराब और बीयर जैसी चीजें बहुत मुश्किल से और सिर्फ एलीट क्लास को ही मिल पाती थीं।

बलूचिस्तान प्रांत में बीयर का लगा प्लांट
जर्मन वेबसाइट ने पाकिस्तान में चीन के बीयर जाल पर स्पेशल रिपोर्ट पेश की है। इसके मुताबिक कुछ साल पहले चीन ने बलूचिस्तान में बीयर प्लांट लगाया था। विरोध के बाद इसे बंद कर दिया गया। चीन से सप्लाई फिर भी हो रही थी। अब तो मुल्क के हर बड़े शहर में चीनी कंपनी ‘हुई’ के आउटलेट्स खुल गए हैं। खुलेआम बिक रही बीयर की पाकिस्तानी इसके जबरदस्त मुरीद हो चुके हैं। दरअसल चाइना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर में काम कर रहे चीनियों को बीयर मुहैया कराने के लिए २०१६ में लाइसेंस के लिए अप्लाय किया। इमरान खान सरकार ने इसे मंजूरी दी। फिर अशांत बलूचिस्तान प्रांत के ग्वादर में बीयर कंपनी का प्लांट शुरू हो गया।

आसान हुआ पाक में शराब मिलना
रिपोर्ट के मुताबिक इस्लामिक देश होने की वजह से पाकिस्तान में शराब खरीदना और पीना आसान नहीं है। मुस्लिमों के लिए यह ऑफिशियली बैन है। शराब या बीयर का ज्यादातर इस्तेमाल गैर मुस्लिम करते हैं। दुकानों के ज्यादातर लाइसेंस भी कथित तौर पर गैर मुस्लिम समुदाय के पास हैं। बलूचिस्तान और सिंध के लोगों का दावा है कि चीन की बीयर यहां बड़ी आसानी से मिल जाती है। इसके कई ब्रांड्स चलन में हैं। अब चीन की कंपनियां पाकिस्तान में शराब के तलबगारों को तेजी से लुभा रही हैं।

अन्य समाचार