मुख्यपृष्ठसमाचारडोकलाम में फिर बढ़ी चीनी गतिविधियां: ड्रैगन की नापाक हरकत!

डोकलाम में फिर बढ़ी चीनी गतिविधियां: ड्रैगन की नापाक हरकत!

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
हिंदुस्थान के खिलाफ चीन हमेशा नई-नई चालें चलता रहता है, ताकि हिंदुस्थान को घेरा जा सके। इसके लिए वो हिंदुस्थान के पड़ोसी देशों की जमीन का इस्तेमाल करने से भी गुरेज नहीं करता। ताजा मामला हिंदुस्थान और भूटान के बीच स्थित डोकलाम क्षेत्र का है। हिंदुस्थान-भूटान और चीन की सीमाओं से लगा यह इलाका हमेशा विवादों में रहा है। इसके विवादों में रहने की वजह चीन द्वारा घुसपैठ करना है। दरअसल, डोकलाम क्षेत्र का इस्तेमाल चीन हिंदुस्थान के खिलाफ करना चाहता है।
हाल ही में सैटेलाइट तस्वीरों के माध्यम से पता चला है कि चीन इस क्षेत्र में अवैध रूप से घरों का निर्माण कर रहा है। इन तस्वीरों के सामने आने के बाद भारतीय थलसेना के चीफ जनरल मनोज पांडे भूटान के दौरे पर पहुंचे। रणनीतिक तौर पर बेहद अहम माने जाने वाले डोकलाम क्षेत्र में चीन की बढ़ती गतिविधि और हिंदुस्थान-चीन के बीच सीमा विवाद के मद्देनजर जनरल मनोज पांडे का यह दौरा बेहद अहम माना जा रहा है। भारतीय सेना ने जनरल मनोज पांडे की भूटान यात्रा को लेकर बयान जारी किया है। अपने बयान में सेना ने बताया कि जनरल मनोज पांडे इस दौरे पर भूटान के राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक और भूटान के चौथे राजा जिग्मे सिंग्ये वांगचुक से मुलाकात करेंगे। सेना ने कहा यह यात्रा दोनों देशों के शानदार और समय-समय पर खरे उतरने वाले द्विपक्षीय संबंधों को और आगे बढ़ाएगी, जिसमें अत्यधिक विश्वास, सद्भावना और आपसी समझ शामिल है। इसके साथ ही आर्मी चीफ दोनों सेनाओं के बीच मजबूत सांस्कृतिक और पेशेवर संबंधों को आगे बढ़ाने हेतु रॉयल भूटान सेना के चीफ के साथ बैठक करेंगे।
विदेश मंत्रालय का बयान
डोकलाम क्षेत्र में बने घर की सैटेलाइट तस्वीरें सामने आने के बाद हिंदुस्थान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित सभी घटनाक्रमों पर लगातार नजर बनाए हुए है और अपने हितों की रक्षा के लिए आवश्यक कदम उठा रहा है। ऐसा माना जा रहा है कि डोकलाम की स्थिति के साथ-साथ इस क्षेत्र में चीनी गतिविधियों के मुद्दे को भी जनरल पांडे अपने भूटानी वार्ताकारों के समक्ष रखेंगे।

अन्य समाचार