मुख्यपृष्ठनए समाचारसिटीजन रिपोर्टर : शहाड में रिक्शा लाइन का लफड़ा! ...रिक्शाचालकों की बढ़...

सिटीजन रिपोर्टर : शहाड में रिक्शा लाइन का लफड़ा! …रिक्शाचालकों की बढ़ रही गुंडागर्दी

ट्रैफिक बढ़ा रहा पादचारियों का टेंशन!

 

मुंबई हो या अन्य कोई भी शहर, सभी जगह सड़क जाम का जाल बिछा हुआ है। बढ़ते ट्रैफिक की समस्या ने पादचारियों की टेंशन बढ़ा दी है। कितनी भी उचित-समूचित व्यवस्था कर दी जाए लेकिन कुछ लोग यातयात के सभी नियमों को ताक पर रखकर उसकी धज्जियां उड़ा रहे हैं। आम-सामन्य जन पहले ही ट्रैफिक की समस्या से जूझ ही रहा है। उस पर शहाड के कुछ अड़ियल रिक्शावालों की मनमानी भी लोगों की समस्याओं में इजाफा कर रही है।
गौरतलब है कि शहाड रेलवे स्टेशन पूर्व में रिक्शा चालकों के मनमानी तरीके से लाइन लगाने के कारण अन्य वाहन चालकों को तकलीफ हो रही है। यहां वैसे भी हमेशा ट्रैफिक जाम ही रहता है। आश्चर्य की बात तो यह कि इस समस्या से निजात दिलाने के लिए रिक्शा लाइन के लिए पाइप की रेलिंग लगाई गई है, लेकिन इसके बावजूद उसका पालन नहीं किया जा रहा है। इस प्रकार का आरोप सिटीजन रिपोर्टर राजेश पवार ने लगाया है। उनका आरोप है कि कुछ रिक्शाचालक बिना लाइन लगाए बीच में ही आकर पैसेंजर को रिक्शा में बिठा लेते हैं। इसकी वजह से अन्य रिक्शावाले लाइन लगाने के बावजूद खड़े रह जाते हैं और उन्हें पैसेंजर नहीं मिलता। उल्हासनगर शहर ऐसा शहर है जहां पर ऑटोरिक्शा चालकों की मनमानी चलती है। उसी का उदाहरण शहाड रेलवे स्टेशन की ऑटोरिक्शा व्यवस्था है। यहां से सेंच्युरी रेयान (बी.के. बिरला मार्ग),  म्हारल, वरप और काबा की तरफ जानेवाले रिक्शा चालकों के मनमाने रवैये के कारण पादचारियों के अलावा अन्य वाहन चालक और स्टेशन की तरफ जानेवाले रेल यात्री काफी यातना भोग रहे हैं। इस मार्ग पर यातायात पुलिस के जवान को तैनात करने की जरूरत है। शहाड रेलवे उड़ान पुल के पास कभी-कभी कई यातायात पुलिस, ट्रैफिक वॉर्डन के साथ खड़े रहते हैं। पवार ने बताया कि श्रीकांत धरने नामक पूर्व यातायात निरीक्षक ने उल्हासनगर की सड़कों की यातायात व्यवस्था को रस्सी, रेलिंग, ड्रम लगाकर सुचारू रूप से किया था। लेकिन कुछ ऑटोरिक्शा चालक यातायात के नियमों को ताक पर रखकर दूसरे रिक्शावालों को परेशान कर रहे हैं। गौरतलब है कि इन दिनों उल्हासनगर के यातायात पुलिस निरीक्षक की कमान विजय गायकवाड़ संभाल रहे हैं। शहाड स्टेशन के समीप पुलिस का निवारा बनाया गया है, इसके बावजूद ट्रैफिक जाम होना सही नहीं लग रहा है।

उल्हासनगर में बढ़ते अवैध ऑटोरिक्शा पर प्रतिबंध लगाने के लिए ठाणे के वरिष्ठ यातायात अधिकारियों को दौरा करने की जरूरत है, जिससे यातायात व्यवस्था सुचारू रूप से चल सके।

अन्य समाचार

लालमलाल!