मुख्यपृष्ठनए समाचारसिटीजन रिपोर्टर : एंटॉप हिल के `आपला दवाखाना' का नहीं कोई ठिकाना!

सिटीजन रिपोर्टर : एंटॉप हिल के `आपला दवाखाना’ का नहीं कोई ठिकाना!

•  कभी खुलता है,  कभी रहता है बंद
• लोगों ने जताई नाराजगी

झोपड़पट्टी बहुल इलाके में शुमार वडाला एंटॉप हिल में स्वास्थ्य सेवा बेहतर करने की मंशा शायद प्रशासन की न हो या कोई और कारण हो, लेकिन इसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। यहां फायर ब्रिगेड के पास संगमनगर के बाहर पिछले कई दिनों से हिंदूहृदयसम्राट बालासाहेब ठाकरे आपला दवाखाना तो खुल गया है लेकिन इसके खुलने और बंद होने के टाइमिंग को लेकर स्थानीय लोगों ने नाराजगी जताई है। `दोपहर का सामना’ के सिटीजन रिपोर्टर अंकित तिवारी के अनुसार स्थानीय लोग जल्द ही इस बाबत प्रशासन को पत्र लिखनेवाले हैं। लोगों का कहना है कि यह आपला दवाखाना कभी सुबह खुलता है तो कभी शाम ४ बजे से रात १० बजे तक। इसके टाइमिंग की वजह से यहां के लोग इस सुविधा का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं।
स्थानीय लोगों का कहना है कि यह झोपड़पट्टी बहुल इलाका है। यहां की घनी आबादी को देखते हुए एक अस्पताल या प्राथमिक चिकित्सा केंद्र शुरू करने की मांग पिछले कई सालों से की जा रही थी। लोगों की इस मांग को देखते हुए शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्ष की पूर्व नगरसेविका स्मिता गावकर ने भागदौड़ करके एंटॉप हिल के इस `हिंदूहृदयसम्राट बालासाहेब ठाकरे आपला दवाखाना’ को पास कारवाया, जिसका क्रेडिट आज `ईडी’ सरकार ले रही है। लेकिन अब जब नगरसेवक का कार्यकाल समाप्त हो गया है तब से यहां की हालत खराब है। अब इस जनकल्याण की दृष्टि से खोले गए `आपला दवाखाना’ की देखभाल करनेवाला कोई नहीं है। अब तो इसके शुरू व बंद होने के टाइमिंग में भी कई बार गड़बड़ी हो जाती है। रात को इस अस्पताल के बाहर लोग भारी संख्या में गाड़ियां पार्क करके चले जाते हैं।
स्थानीय लोगों ने प्रशासन से विनती की है कि इसकी बदहाली पर ध्यान दिया जाए और इस `हिंदूहृदयसम्राट बालासाहेब ठाकरे आपला दवाखाना’ का फायदा वैâसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिले, इस पर काम किया जाना चाहिए।

रविवार को कई जगह बंद रहा `आपला दवाखाना’
गत रविवार कई जगहों पर `हिंदूहृदयसम्राट बालासाहेब ठाकरे आपला दवाखाना’ बंद रहा। इस वजह से बीमार लोगों को यहां-वहां भटकना पड़ा। अंकित तिवारी के अनुसार, बरसात के इस मौसम में इन दिनों डेंगू और वायरल फीवर सहित कई बीमारियां पैâल रही हैं। ऐसे में थोड़ा-सा भी बुखार होने पर लोग पास के सरकारी अस्पताल की ओर दौड़ते हैं। इसलिए लोग आपला दवाखाना की ओर जाते दिखे, लेकिन रविवार दोपहर को कई जगह यह दवाखाना बंद रहा। कुर्ला, चेंबूर वैंâप, घाटला जैसे इलाके में जनता की सेवा के लिए खुले सेंटरों पर ताला दिखाई दिया। दवाखाना के आसपास के लोगों ने मरीजों को जानकारी दी कि इसी तरह से दिन भर कई लोग पूछताछ करके वापस जाते रहे थे।

अन्य समाचार