मुख्यपृष्ठनए समाचारसिटीजन रिपोर्टर : बदलापुरकर सड़क की खुदाई से हैं परेशान! ... मूक...

सिटीजन रिपोर्टर : बदलापुरकर सड़क की खुदाई से हैं परेशान! … मूक बनी शिंदे सरकार

बदलापुर
एकनाथ शिंदे ने जबसे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की कमान संभाली है तब से वे जबरन खुद को विकास पुरुष बनाने के चक्कर में पड़े हैं। दिखावे के लिए वो दिल्ली की भाजपा सरकार से फंड मांगने के लिए चक्कर पर चक्कर लगाकर फंड ला रहे हैं, लेकिन वो इस फंड से विकास की बजाय विनाश करने में लगे हैं। आज स्थिति ऐसी है कि एकनाथ शिंदे अपनी खोई हुई चुनावी स्थिति बनाने के चक्कर में लोगों के पैसों को पानी की तरह बहा रहे हैं। स्थानीय प्रशासन व समर्थक भी कथित कमीशन के चक्कर में अच्छी बनी हुई सड़क को तोड़कर बदलापुरकर के साथ ही वाहन चालकों के लिए मुसीबत का सबब बने हैं। ‘दोपहर का सामना’ के सिटीजन रिपोर्टर भगवान इंगले ने बदहाल बदलापुर की जन समस्या को बयां किया है।
भगवान इंगले का कहना है कि बदलापुरकर कुछ दलबदलू कथित नेताओं के चक्कर में फंसे हुए हैं। स्थिति ऐसी है कि बदलापुर जो एक विकसित शहर था वो आज विनाश के कगार पर है। अच्छी-खासी सड़कों को खोद दिया जाता है और सड़क को खोदने के बाद उसे सालों तक बनाया नहीं जाता, जिसकी वजह से सड़कों पर जानलेवा गड्ढे बन गए हैं। इन गड्ढों के चलते चारों ओर धूल उड़ रही है। उड़ती धूल के चलते बदलापुर के रहिवासी परेशान हैं। इन गड्ढों के चलते बाइक और एक्टिवा से कई बार हादसे तक हुए हैं।
मुख्यमंत्री ने प्रदूषण को रोकने के लिए पानी का छिड़काव और कपड़े बांधने का आदेश पारित किया है। इसके बावजूद नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। जब सड़क की खुदाई की जाती है तो इसकी सूचना तक यातायात पुलिस को नहीं दी जाती है। इन दिनों बदलापुर में काफी सड़कों की खुदाई का काम जारी है। इन सड़कों की खुदाई का शहर के लोगों पर क्या असर होता है? इस बात को नजरअंदाज किया जाता है। सड़क की खुदाई करने के बाद उन सड़कों का मरम्मत कार्य किया गया या नहीं, इस मुद्दे का बदलापुर के सार्वजनिक बांधकाम विभाग के तमाम अभियंता भी अनदेखी करते हैं। वहीं जिनके प्रयास से बदलापुर शहर की सड़क को खोदकर लोगों के लिए दिखावटी विकास किया जा रहा है, वो भी कमीशन के चक्कर में शहर का विनाश अपनी खुली हुई आंखों से देखते हुए गांधी जी के बंदर बने रहते हैं।

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा