मुख्यपृष्ठनए समाचारसिटीजन रिपोर्टर : बढ़ते प्रदूषण के कारण महामार्ग के पेड़ हो रहे...

सिटीजन रिपोर्टर : बढ़ते प्रदूषण के कारण महामार्ग के पेड़ हो रहे हैं काले!

उल्हासनगर
केंद्र और राज्य सरकार सहित उल्हासनगर मनपा प्रदूषण को खत्म करने के नाम पर तरह-तरह के उपाय करने के साथ ही बेहिसाब रुपए फूंक रही है। प्रदूषण की स्थिति यह है कि कल्याण-मुरबाड महामार्ग पर चलनेवाले वाहनों से निकलने वाले कार्बन के चलते हरे-भरे पेड़ काले रंग में तब्दील हो गए हैं। ‘दोपहर का सामना’ के सिटीजन रिपोर्टर ओमकार तिवारी ने बढ़ते प्रदूषण का बयान किया है।
ओमकार तिवारी का कहना है कि देश में वायु प्रदूषण बड़ी मात्रा में बढ़ रहा है। वायु प्रदूषण को रोकने के लिए राज्य और केंद्र के निर्देश पर उल्हासनगर का पर्यावरण विभाग सड़कों पर पानी का छिड़काव कर धूल और धुएं को रोकने के लिए काफी प्रयास कर रहा है। शहर में वर्टिकल गार्डन लगाया जा रहा है, लेकिन मनपा के तमाम प्रयास फेल होते दिखाई दे रहे हैं। उल्हासनगर के मुख्य मार्ग कल्याण-बदलापुर व कल्याण-मुरबाड मार्ग के डिवाइडर्स के बीच पेड़ लगाए गए हैं। लगाए गए पेड़-पौधे को हरा-भरा रहना चाहिए लेकिन वे सभी पेड़-पौधे वाहनों से निकलनेवाले धुएं से काले पड़ गए हैं। काले पड़े पेड़ यह साबित कर रहे हैं कि वाहनों से भारी मात्रा में कार्बन निकल रहा है। इस कार्बन से कल्पना की जा सकती है कि जब पेड़ काले पड़ रहे हैं तो सड़क के किनारे स्थित दुकानदारों और मकानों में रहनेवालों की क्या दशा होती होगी। इससे यह भी साबित होता है कि महामार्ग पर चलनेवाले वाहनों की पीयूसी बराबर नहीं है। ओवर लोडेड वाहनों के साथ ही पुराने वाहनों से जहरीले धुएं को निकलते देखा जा सकता है। मनपा की तरफ से शहर में महामार्ग, बगीचे, चौक जैसी कई जगहों पर प्रदूषण मापक यंत्र लगाया गया है, जिसमें उल्हासनगर काफी प्रदूषित शहर माना जाता है। राज्य सरकार, मनपा के पर्यावरण विभाग को चाहिए कि वायु प्रदूषण के बढ़ते प्रमाण को रोकते हुए उल्हासनगर के लोगों को खुली हवा में जीने का अधिकार दे।

अन्य समाचार